भूत प्रेत चोर उच्चाटन हेतु सिद्ध चमत्कारी भैरब मंत्र:

भूत प्रेत चोर उच्चाटन हेतु सिद्ध चमत्कारी भैरब मंत्र:

चमत्कारी भैरब मंत्र : ॐ नमो आदेश गुरु को काला भेरू काले केश, कानों
कुण्डल भगबा बेष। श्वान की सबारी गले मुण्ड माला भैरब
का भाला चोर की बाट कीलें भूत प्रेत की छाती चिर भाग
भाग भूत प्रेत नहीं तो तेरे पर पडें काल भैरु का प्रहार करे
भस्मी भूत प्रेत को नहीं तो माई कामाख्या की आण ज्वाला
माई की दुहाई शव्द शांचा पिण्ड कांचा फुरों मंत्र ईश्वरो
बाचा बाचा चुके तो तेली तमौलण की आण गुरु की शक्ति
हमार भक्ति सत्यनाम आदेश कैलाश अघोरी को हूँ फट।
 
।।चमत्कारी भैरब मंत्र बिधि।।
इस मंत्र को नरक चौदस की रात्रि में 1008 बार श्मशान में बैठकर जपने से सिद्ध हो जाता है । जप के समय धूप दीप, मदिरा, बाकला, निम्बू से भैरब पूजा कर लें और अपने चारों और चाकू से घेरा निकाल कर जप पूर्ण करें । जप के अन्त में गुगल से दशांश हबन कर लें । फिर जिस जगह भूत, प्रेत, चोर का भय हो बहां पर एक लौटे में कुएं या नदी का जल लें उसमें चुटकी भर सिन्दुर डालकर धूप दीप ,कपूर, बतीसा जलाकर उपरोक्त मंत्र से 121 बार अभिमंत्रित कर लें फिर नीम की टहनियों से उस जल को छिडक दें तो उस स्थान में भूत प्रेत नहीं रहते अगर होंगे तो भी भाग जाएंगे और चोर का भी भय नहीं रहेगा ।
 
नोट : यह चमत्कारी भैरब मंत्र प्रयोग उस स्थान पर बैठकर करें जन्हा पर भय हो कि भूत प्रेत या चोर के प्रबेश करने की शंका हो और जल छिडकते समय साधक के हाथ में कपूर और गुगल का धूप जलता हुआ मिट्टी का कटोरा होना चाहिये या किसी एक ब्यक्ति को अपने साथ रखें जो धूप बाला बर्तन आपके साथ साथ लेकर चल सके और आप आगे आगे जल के छिटे मारते हुये धूम सके इससे उस स्थान को छोडकर प्रेत आत्मा को जाने पर मजबूर होना पडेगा और स्वयं ही भाग जायेगी ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment