कसाई का छुरा स्तम्भन मंत्र :

कसाई का छुरा स्तम्भन मंत्र :

छुरा स्तम्भन मंत्र : काले टिल कबेला तिल, गुजरी बैठी बीर । पसारे सुई न
देधे माधाई ।पीर न आबै, काली करू इमती भारी ।
दुष्य तिबुकिलार अबनी बांधो सुई ।अबषाडे की धार,
आबे न लोहू । न फूटे घाउ, रक्षा करे श्री गोरख राऊ।।

बिधि : इस मंत्र को ग्रहण काल ,पर्बकाल या शुभ मुहूर्त में सिद्ध करने के पश्चात् इसका प्रयोग तब करे जब कोई कसाई पशु (बकरा) का बध करने जा रहा हो उस समय इस मंत्र से कुछ उड़द के दाने अभिमंत्रित करके बकरे के मारे जाएं, तो कसाई का हथियार उसका बध नहींकर पाएगा।

Facebook Page

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें।

Leave a Comment