तांत्रिक मायाजाल भंग हेतु मंत्र प्रयोग :

तांत्रिक मायाजाल भंग हेतु मंत्र :

ॐ श्री अस्थापन , तामं करहु जामें राम भलाई ।
गुणियां के जो गुण काटो , तो इसमें नहीं मनाही ।
दुहाई कामरू कामाक्षा नैना योगिनी की । शव्द
सांचा पिंड काँचा । फुरे मंत्र ईश्वरो बाचा ।।

बिधि : इस तांत्रिक मायाजाल भंग मंत्र को सर्ब प्रथम ग्रहण काल में जप कर सिद्ध कर लें । पुन: प्रयोग में किसी के द्वारा फैलाए गए मायाजाल से दुःख पहुँच रहा हो तो इस मंत्र का जप करते हुए रोगी का झाड़ा करने से रोगी रोग मुक्त हो जाता है ।

Facebook Page

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें।

Leave a Comment