पशु का कीटनाशक मंत्र:

पशु का कीटनाशक मंत्र :

“ॐ नमो कीड़ा रे ,तू कुण्ड कुंडला ।लाल पूछ तेरा मुंह काला ।
मै तोय बूझा, कहां ते आया ।तुं ही तूने सबका खाया ।अब तुं
जाय ।भस्म होई जाय । गुरु गोरखनाथ करै सहाय ।।”

पशु का कीटनाशक मंत्र बिधि : सर्ब प्रथम इस मंत्र को ग्रहण- काल , पर्ब काल में सिद्ध कर लें । फिर प्रयोग के समय मंत्रोचारण करते हुए नीम की पत्ती युक्त टहनी लेकर पशु को झाड़ा सात बार करें तो पशु ,रोग मुक्त हो जाता है ।

Facebook Page

ज्योतिष संभाबनाओं का बिज्ञान है । बाबजूद इसके आपका ज्ञान पका है तो सभाबनाएं भी परिनामों में बदल जाती हैं । एक ज्योतिष भी तो यही करता है । आपको “दुबिधा से बचाने सुबिधा” का मार्ग प्रशस्त करता है।ज्योतिष के सटीक उपाय 80 प्रतिशत से 90 प्रतिशत तक फायदा जरुर पहुंचाते हैं । आप भी यह दिया गया प्रयोगं और उपायों को बेहिचक आजमा सकते हैं । इन प्रयोगों से आपकी समस्याएं निशिचत रूप से हल हो जाएंगी , फिर भी यदि आप कुंडली दिखाकर कुछ और भी जानना चाहते है तो मोबाइल नो 9438741641 पर संपर्क कर सकते हैं ।

Leave a Comment