मेष राशि और शनि
साल 2024 में मेष राशि पर शनि का प्रभाब :
December 18, 2023
मिथुन राशि और शनि
बर्ष 2024 में मिथुन राशि पर शनि का प्रभाब
December 18, 2023
बृषभ राशि और शनि

बर्ष 2024 में बृषभ राशि पर शनि का प्रभाब :

बृषभ राशि और शनि : इस बर्ष शनि का गोचर परिभ्र्मण आपकी राशि से दसवें स्थान पर रहेगा । दसवां शनि कर्म और कार्यक्षेत्र को बढ़ायेगा। काम का दबाब खूब रहेगा । कहीं न कहीं आपको काम व पारिबारिक जीबन में संतुलन बिठाना बहुत बड़ी जिम्मेदारी रहेगी । आप किसी बिशेष काम में पूरी ऊर्जा पूरी तल्लीनता से लगे रहेंगे ।

माता का स्वास्थ्य कुछ गड़बड़ रह सकता है , बाहन भी साबधानी पूर्बक चलाबे । बड़े -बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद आपको प्राप्त होगा, मित्रों का साथ व सहयोग आपको शिखर तक पहुंचाने में सहायता करेगा । इस बर्ष आप किसी जरूरतमंद मित्र की तरफ सहायता व मदद का हाथ बढ़ा सकते हैं । इस साल जून से नवंबर के मध्य शनि बक्र गति में चलायमान रहेंगे । अतः किसी पर भरोसा करना आपकी भूल ही कहि जायेगी । आपके अपने लोग ही इस समय आपके साथ बिश्वासघात कर सकते हैं । कुछ शारिरीक समस्याएँ  भी झेलनी पड़ सकती हैं । भाइयों से सम्पति संबन्धी बिबाद तो होगा , लेकिन किसी की मध्यस्थता बिबाद समय रहते सुलझ भी जायेंगे । आपको चतुराई व बिबेक से काम लेना चाहिए ।

साल 2024 में बृषभ राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के उपाय :

1)बृषभ राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए किसी भी बिद्वान ब्राम्हण द्वारा या स्वयं शनि के तंत्रोक्त , बैदिक या पौराणिक मन्त्रों के 23000 जाप करें या कराएं । शनि का तंत्रोक्त मंत्र निम्नलिखित है – “ॐ प्रां प्रीं स: शनैश्चराय नमः

2) बृषभ राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए शनिबार का ब्रत रखे । इस दिन एक समय सायंकाल में ही भोजन करें। शनि संबंधी उपचार करने के बाद उपबास खोलने पर दान अबश्य ही करना चाहिए ।

3) बृषभ राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए कीड़ी, नगरा सींचे। चीटियों को भोजन कराएं ।

4 )काला कंबल, उड़द की दाल, काले तिल, तेल,चरण पादुका (जूते ), काला बस्त्र , मोटा अनाज व लोहे के पात्र का दान करना चाहिए ।

5) शनि की पीड़ा को कम करने के लिए , 7 प्रकार के अनाज व दालों को मिश्रित करके पक्षियों को चुगाएं ।

6 )बैगनी रंग का सुगन्धित रूमाल पास में रखें ।

7) शनि मंदिर में शनि की मूर्ति पर तिल का तेल चढ़ाएं ।

8) शनि भगबान के सामने खड़े रहकर दर्शन नहीं करें, किनारे में खड़े रहकर दर्शन करें , जिससे शनि की दृष्टि आप पर नहीं पड़े ।

9 )शनि न्याय के देवता है , अतः उन्हें हाथ नहीं जोड़ा जाता । दोनों हाथ पीछे करके सिर झुका कर उन्हें नमन करें ,जिस प्रकार ब्यक्ति न्यायाधिकारी सन्मुख खड़ा होता है ।

Connect with us on our Facebook Page

आचार्य प्रदीप कुमार (मो) :+91-9438741641 (Call/Whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *