मंजूघोषा किन्नरी साधना क्या है?

मंजूघोषा किन्नरी साधना क्या है ?

मंजूघोषा किन्नरी : यह किन्नरी कुबेर की सेबा में उपस्थित रहने बाली प्रमुख किन्नरियों में से एक है । मंजूघोषा किन्नरी सिद्ध होने के पश्चात् पत्नि या प्रेमिका के रूप में दर्शन देती है । यह साधक से गोपनीतया हेतु कुछ बचन लेती है और समय-समय पर साधक को द्र्ब्य, रसायन, आभूषण प्रदान करती रहती है ।
 
मंजूघोषा की साधना शुभ नक्षत्र में आरम्भ करें, पूर्ण रात्रि मंत्र जप करें । यह किन्नरी अथक परिश्रम से सिद्ध होने बाली है । प्रतिदिन ७००० मंत्र जप करें, किंन्तु निरन्तर यह साधना एक मास तक करें । ब्रह्माचर्य का पालन पूरी सजगता से करें । मंजूघोषा के प्रकट होने पर उसे मीठा पान अर्पण करें, पूर्ण आदर और सम्मान से बचन प्राप्त करें । मंत्र इस प्रकार है-
 
ॐ मंजूघोषे आगछागछ स्वाहा ।।
 
पूर्ण सात्विकता और शुद्ध हृदय से एक माह तक साधना करने पर किन्नरी अबश्य प्रत्यख्य होती है, यदि ऐसा न हो तो निम्नलिखित क्रोध मंत्र का जप करें : ॐ ह्रीं अकट्ये कट्ये ह्रुं ब: फट्।।
 
यदि फिर भी किन्नरी प्रकट न हो तो स्तम्भन मंत्र का प्रयोग करें —
ॐ क्रीं हुं क्रीं किन्नरये फट्।।
 
इसके जप के पश्चात् अबश्य किन्नरी प्रकट होती है । अत्यंत पौरूषत्व गुण बाले मनुष्य पर ही यह प्रसन्न होती है । संस्कारित रुद्राख्य माला से ही उपरोक्त मुख्य मंत्र का जप करें ।

 

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे (मो.) 9438741641/ 9937207157 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment