महंमदपीर मंत्रो

महंमदपीर मंत्रो :

महंमदपीर मंत्रो :”बिस्मिल्ला हेर्रहेमानि र्रहीम महम्मदा ताइयासिलारनबलखताजीका असबर यंहा
चलंता कौन कौन चल्ला अजैगिर पर पर्बत चले हाजि चले गाजी चले ढोल
बांजत भेरी बांजत अहेमदा चलंत महेमदा चलंत राजा हठीली चलंत सत्तर
सिला चलंत बहत्तर बल्लम चलंत एक लाख अस्सी हजार पीर पैगम्बर चलंत
बाबन बीर चलंत चौसठ योगनी चलंत नौ नारसिंह चलंत बारह राबण चलंत
चौसठ मसा चले सुलेमान पैगम्बरका तखत चलंत ईसा पैगम्बर का तखत चलंत
बहत्तर खान बज्राइल पैगंम्बर का तखत चलंत लाल परी चली सुपेद परी चली
जरद परी चली स्याम परी चली सबज परी चली हूर परी चली जर परी चली
अलोल परी चली आसमान परी चली सुपेद परी चली अकाश से उतरी बराय
खुदा मेरे कामकूं सिताबी उतार ल्याबणा एक चलंता एक सौ चल्या दोय
चलंता दोय सौ चल्या तीन चलंता तीन सौ चल्या बड़े बेगसूं चल्या उड़ा कुडा
देब चल्या मंदाऊ कालेश्वरी चली लंका पै राबण चल्या हनुमंत चले घूमन गरसूं
देबी घूमा चली नदी नाले सूं चली मंदोदरी राबन पुरी सु चली उलटी पाखर
सुलटी लागी जो कोई कहे हमारी बुरी उलटी सोमरलीदेखू ते तालमंत्र तेरी
शक्ति बिस्मिल्ला हेर्रहंमानी र्रहीम उत्तरका बाजा बजा उत्तर का बादशाह आया
पश्चिम का बाजा बजा पश्चिम का बादशाह आया पूरब का बाजा बजा पूरब का
बादशाह आया काले काले के असबार अपनी अपनी जमात सिताबी लेकर
आबणा जहां हकालूं जहां हाजिर रहेना देखुदा महम्मदा की सुखीर पीर नीर निर
लीला घोडा नीलाजीन जिस पर चढिआया महम्मदा पीर रोजा करै निबाज गुजारै
अन्न पानी के कने न आबैं खाजखाय अखज पर हरै सो मुसलमान बिहिस्त में
जाय सबामब लोहे की जंजीर तोड़ तो जाई तोड़तो आब हाथ कुदाडी गले
जंजीर ऐसी कही सुनो महम्मदापीर सुनो महम्मदापीर अपनी मुदारा पेशकरी
पराई मुद्रा तोड़ डाल हमारी हकार तुम्हारी पुकार किले नारसिंह किले की
असबारी ठ: ठ: स्वाहा । इति मंत्र: ।”

अस्य बिधानम् :-
सफ़ेद कपड़ा सबा हाथ, गूगल और नमक की धूप देबें । फिर सबासेर चाबल की महेजित बनाबें । थाली में पानी से भरकर रखें । महजित के ऊपर चौमुखा दीपक जलाबें, कुंवारी कन्या को स्नान कराकर नबीन बस्त्र पहनाकर सम्मुख बैठाबें । गुड की १४ गोली महंमदपीर मंत्रो से कन्या को खिलाबें । कन्या दीपक पर निगाह रखें । पश्चात प्रश्न पूछे तो सत्य कहेगी ।

दूसरों तथा स्वयं की सुख –शान्ति चाहने बालों के लिए ही यह महंमदपीर मंत्रो दिया गया है । इसमें दिए गये यंत्र, मंत्र तथा तांत्रिक महंमदपीर मंत्रो साधनों को पूर्ण श्रद्धा तथा बिश्वास के साथ प्रयोग करके आप अपार धन –सम्पति, पुत्र –पौत्रादि, स्वास्थ्य –सुख तथा नाना प्रकार के लाभ प्राप्त करके अपने जीबन को सुखी और मंगलमय बना सकते हैं ।

Our Facebook Page Link
तंत्राचार्य प्रदीप कुमार – 9438741641 (Call /Whatsapp)

Leave a Comment