किस पाठ के करने से क्या होता है :
किस पाठ के करने से क्या होता है :
January 31, 2024
स्तम्भन प्रयोग
स्तम्भन प्रयोग कैसे करें ?
January 31, 2024
मारण प्रयोग विधि

मारण प्रयोग विधि :

मारण प्रयोग विधि : भगबान त्र्यम्बक महेश ने साधक शिबगिरि को शरीर रख्या तथा दुष्टों के बिनाश के लिए मारण प्रयोग विधि का उपदेश दिया । ये मारण प्रयोग विधि मंत्र संखिप्त रूप मे इस प्रकार हैं—
 
महादेब बोले — अब मारण प्रयोग कहता हुं जिससे कि मनुष्यों को तत्काल सिद्धि होगी । है मुने ! साबधान होकर तंत्र के मारण प्रयोगों को सुनो ।
 
बृथा, बिना अति दुष्कर परिस्थितियों में फंसे, चाहे जिसका मारण कभी न करना चाहिए । जिसे ऐश्वर्य की इछा हो ऐसे आदमी को जब प्राण संकट में हों, तभी इसका प्रयोग करना चाहिए ।
 
“सब संसार ब्रह्मारुप है”, यह ज्ञानरूपी नेत्रों से देखकर मारण प्रयोग करना चाहिए, नहीं तो दोष होता है ।
 
मूर्खो अज्ञान से प्रयोग करे तो बह प्रयोग उस प्रयोगकर्ता को ही नष्ट कर देता है, इसलिए मात्र अपनी रख्या करे और मारण प्रयोग जहाँ तक हो सके कभी न करे ।
 
यदि मारण करना ही एकमात्र साधन रह जाए तो दुष्ट के नाश के लिए मारण का प्रयोग इस प्रकार से करे- मंगल के दिन शत्रु ने जिस स्थान में अपना पैर रखा हो, बहाँ की धूल लाबे । उस मिट्टी में गोमुत्र मिलाकर शत्रु की मूर्ति बनाबे और नदी तीर पर एकान्त मे बेदी पर उसे स्थापित करे । उसकी छाती में अत्यन्त कठिन लोहे का त्रिशूल गाड दे और उसकी बाई और बलि देकर कालभेरब का प्रतिदिन पूजन करे ।
 
बहाँ ग्यारह बालकों को उत्त्म अन्न से भोजन कराये और उस मूर्ति के आगे सरसों के तेल का ऐसा दीपक जलाये जो दिन-रात जलता रहे । ब्याघ्रचर्म का आसन बिछाकर उसके दखिण की और बैठे और रात्रि को दखिण दिशा की और मुख करके साबधान होकर इस मंत्र को जपे ।
 
मारण प्रयोग विधि मंत्र : “ॐ नमो भगबते महाकालभैरबाय काकाग्नितेजसे अमुकं मे शत्रुं मारय मारय पोथय हुं फट् स्वाहा” ।।
 
मारण के लिए उपरोक्त मंत्र का जप करना चाहिए । (मंत्र में “अमुक” के स्थान पर शत्रु का नाम साधक बोले।)
 
रात को साबधान होकर यह मंत्र दस हजार बार जपे तो निश्चयपूर्बक उनतीस दिन में मारण होगा ।
 
इस प्रकार यह मारण तंत्र मनुष्यों को तत्काल सिद्धि देने बाला है । साधक को सदैब साबधान रहना चाहिए तथा ब्यक्तिगत स्वार्थ के लिए भूलकर भी मारण प्रयोग नहीं करने चाहिएं । इस बिद्या का उपयोग लोक कल्याण के लिए तभी करना चाहिए जब अन्य किसी प्रकार से कार्य सम्भब ही न हो । मारण प्रयोग कभी भी गुरु के निर्देश के बिना नहीं करने चाहिएं । इन प्रयोगों मंस जरा सी भी चूक रह जाने पर साधक के प्राण सकंट में पड सकते हैं ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *