बृषभ राशि और शनि
बर्ष 2024 में बृषभ राशि और शनि का प्रभाब
December 18, 2023
कर्क राशि और शनि
बर्ष 2024 में कर्क राशि और शनि
December 18, 2023
मिथुन राशि और शनि

बर्ष 2024 में मिथुन राशि और शनि :

मिथुन राशि और शनि :इस बर्ष शनि महाराज बर्ष पर्यन्त नबम स्थान में गतिशील रहेंगे । नौकरी में पदोन्नति का अबसर मिल सकता है , बॉस व अधिकारी आपके काम से प्रसन्न रहेंगे । कार्य बिस्तार की योजना जो लंबित चल रही थी , वह एक बार फिर उस पर काम चालू होगा । स्वास्थ्य के मामले में आपको किसी भी प्रकार की लापरबाही नहीं करनी चाहिए । खान -पान , योग , ब्यायम आदि पर पूरी गंभीरता से ध्यान दे। ब्यापार व कारोबार में कोई नया बड़ा आर्डर या डील हो सकती है । आर्थिक स्थिति व हालात पहले से बेहतर बनेंगे। लेकिन अगर आप सरकारी नौकरी में हैं , तो आपको एक -एक कदम फूंक -फूंक कर रखना चाहिए , अजनवी व अपरिचित ब्यक्तियों से रुपयों पैसों का लेन देन नहीं करें, कार्यकुशलता व कार्यक्षमता में इजाफा होगा ।

 

किसी प्रभाबशाली व बिशिष्ट ब्यक्ति से आपकी मुलाक़ात आपकी उन्नति के रास्ते , खोल देगा । शत्रु व बिरोधी षड्यंत्र या कोई गुप्त योजनाकारित करने की सोचेंगे । हालांकि आपका अहित व नुकशान कुछ भी नहीं कर पायेंगे । कुछ बिशेष कार्यों की प्रबृति रहेगी । कोर्ट -कचहरी व बटबारे संबंधी जो बिबाद चल रहे थें , वह किसी की मध्यस्थता से हल हो जायेंगे । बिभागीय परीक्षा , नौकरी व प्रमोशन आदि से संबंधित परीक्षा में सफलता मिल सकती है ।

साल 2024 में मिथुन राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के उपाय :

1)मिथुन राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए किसी भी बिद्वान ब्राम्हण द्वारा या स्वयं शनि के तंत्रोक्त , बैदिक या पौराणिक मन्त्रों के 23000 जाप करें या कराएं । शनि का तंत्रोक्त मंत्र निम्नलिखित है – “ॐ प्रां प्रीं स: शनैश्चराय नमः

2) मिथुन राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए शनिबार का ब्रत रखे । इस दिन एक समय सायंकाल में ही भोजन करें । शनि संबंधी उपचार करने के बाद उपबास खोलने पर दान अबश्य ही करना चाहिए ।

3) मिथुन राशि और शनि के दुस्प्रभाब को कम करने के लिए कीड़ी, नगरा सींचे। चीटियों को भोजन कराएं ।

4 )काला कंबल, उड़द की दाल, काले तिल, तेल,चरण पादुका (जूते ), काला बस्त्र , मोटा अनाज व लोहे के पात्र का दान करना चाहिए ।

5) शनि की पीड़ा को कम करने के लिए , 7 प्रकार के अनाज व दालों को मिश्रित करके पक्षियों को चुगाएं ।

6 )बैगनी रंग का सुगन्धित रूमाल पास में रखें ।

7) शनि मंदिर में शनि की मूर्ति पर तिल का तेल चढ़ाएं ।

8) शनि भगबान के सामने खड़े रहकर दर्शन नहीं करें, किनारे में खड़े रहकर दर्शन करें , जिससे शनि की दृष्टि आप पर नहीं पड़े ।

9 )शनि न्याय के देवता है , अतः उन्हें हाथ नहीं जोड़ा जाता । दोनों हाथ पीछे करके सिर झुका कर उन्हें नमन करें ,जिस प्रकार ब्यक्ति न्यायाधिकारी सन्मुख खड़ा होता है ।

Connect with us on our Facebook Page

आचार्य प्रदीप कुमार (मो) :+91-9438741641 (Call/Whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *