जन्मकुंडली और रोगों की तीव्रता
जन्मकुंडली और रोगों की तीव्रता
April 21, 2024
शुभ और सफल यात्राकी 10 गुप्त उपाय :
शुभ और सफल यात्रा की 10 गुप्त उपाय :
April 22, 2024
विदेश यात्रा योग
आज के आधुनिक समय में हर अधिकतर जातकों की ये इच्छा होती है की वो विदेश में जाकर गुजर बसर करे विदेशों की भव्यता उनको बहुत लुभाती है आज हम कुंडली में बनने वाले कारणों की चर्चा करेंगे की कैसे विदेश यात्रा योग बनते है
कुंडली का चोथा भाव हमारी मात्रभूमि का कहलाता है किसी भी जातक के विदेश यात्रा योग और वंहा सेटल होने के लिय इस भाव का पीड़ित होना जरुरी है क्योंकि जब ये भाव पीड़ित होगा तो जातक के जन्मभूमि छोड़ने के योग बनते है
विदेश यात्रा योग के लिय कुंडली में तीसरा नोवाँ और बारवां भाव मुख्य भूमिका निभाते है बारवें भाव को विदेश का ही भाव माना गया है इसिलिय तीसरा भाव जो की चोथे से बारवा होता है को विदेश जाने में अहम मना गया है तीसरा भाव हमारी छोटी मोटी यात्राओं को इंगित करता है और ऐसे स्थान को बताता है जिनकी हमारे जन्मस्थान से ज्यादा दुरी न हो कुंडली का नवम भाव जिसे भाग्य भाव भी कहते है जो लम्बी दुरी की यात्राओं को बताता है और ऐसे स्थानों को इंगित करता है जो हमारे जन्म स्थान से मध्यम दुरी पर हो बारवा भाव लम्बी यात्रों और ऐसे स्थानों को बताता है जो हमारे जन्मस्थान से काफी दूर हो
जैसा की आपको पता है की लग्न और लग्नेश की कुंडली में अहम भूमिका होती है ऐसे में विदेश यात्रा योग की चर्चा इनके बिना नही हो सकती जब भी बारवें भाव के स्वामी का सम्वन्ध लग्न या लग्नेश से हो रहा हो तो विदेश यात्रा योग बनते है जैसे बारवें का स्वामी लग्न में और लग्नेश बारवें भाव में हो यदि लग्नेश बारवें में हो तो भी विदेश यात्रा योग बनेगे इसके साथ चूँकि हमारा कर्म छेत्र का भाव दसम होता है इसीलिये यदि व्ययेश का सम्बन्ध दशमेश से बन रहा हो तो जातक के विदेश जाकर या विदेश से सम्बन्धित व्यवसाय करने के योग बनते है इसी प्रकार ग्यारवाँ भाव हमारी आय लाभ को दर्शाता है ऐसे में जब व्ययेश का सम्बन्ध आएश से बन रहा हो तो भी विदेश से लाभ के योग बनते है यदि व्ययेश चोथे भाव में हो तब भी विदेश यात्रा योग बनते है
जब लग्नेश भाग्य भाव में हो और भाग्येश लग्न में हो तब भी विदेह जाने का योग जातक की कुंडली में बनता है इसी प्रकार जब तृतीयेश का सम्बन्ध लग्नेश से बन रहा हो तो भी विदेश के कुछ योग बनते है
जब भी विदेश में सेटेल होने की बता हो तो हमे इस बात का ध्यान रखना होता है की व्ययेश चतुर्थेस से बली हो और व्यय भाव चोथे भाव से ज्यादा बली होना चाहिए चोथे भाव के पीड़ित होने से और व्यय भाव के बली होने से विदेश के योग प्रबल बनते है जातक के विदेश में सेटेल होने के इन सबके साथ भाग्य भाव और भाग्येश का बली होना जरुरी है क्योंकि जब तक जातक को भाग्य का साथ नही मिलता उसे सफलता नही मिलती चाहे वो विदेश हो या देश इन सबके साथ दशा महादशा देखना जरूरी है यदि किसी ऐसे ग्रह की दशा चल रही हो जो आपको विदेश में लाभ दिला सकती है तो उस समय विदेश के लिय किया गया प्रयत्न लाभप्रद सिद्ध होता हैइसिलिय सभी बिन्दुओं पर विचार करके उसके बाद विदेश की तैयारी करे

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार -(Mob) 9438741641 /9937207157 (Call/ Whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *