धबलामुखी उच्चाटन प्रयोग :
धबलामुखी उच्चाटन प्रयोग :
May 23, 2023
अपनी रक्षा के लिए मंत्र :
अपनी रक्षा के लिए मंत्र :
May 28, 2023
शत्रु बिद्वेषण प्रयोग :

शत्रु बिद्वेषण प्रयोग :

दो मित्रों के जन्म नक्षत्र बाले बृक्षों की लकड़ी (या आक की लकड़ी, नीम की लकड़ी) से दो पीढ़े बनाकर उनपर गदही के दूध से लेप करे । तत्पश्चात उसके ऊपर बिषाष्टक से नामयुक्त दो अकार लिखकर उसे छूकर रात में इस मन्त्र को एक हजार बार जपें ।

मंत्र यह है –
मंत्र :- ॐ ह्रौं ग्लौं हसौं भ्रौं भगबती दण्डधारिणी अमुकं अमुकं शीघ्र बिद्वेषय बिद्वेषय रोधय रोधय भन्जय भन्जय श्रीं मायाराज्ञयै ॐ हुं हुं हुं ।

इसके बाद गदहा, भैसा, कुते की पूँछ के बालों को काट कर उससे रस्सी बनाकर उन दोनों पीढों को बाँध देबें। उन पीढो को दीमक बामी के छिद्र में (बिपरीत दिशा में उनके मुंह करके) गाड़कर फिर एक हजार मंत्र का जप करें । इस प्रकार बिद्वेष्ण की सिद्धि होती है । बल्मीक छिद्र में उसे गाड देबें फिर मनुष्य एक सप्ताह जप करे तो दोनों मित्रों में बैर हो जाता है ।

प्रयोग :-
(१) दो ब्यकियों के परस्पर क्रुद्ध होकर लड़ने से उनके पैरों के नाखूनों से उठी हुई धूल को लाकर यदि दो भाइयों के घर में या उनकी पुतलियों को उससे ताडन करे तो उन दोनों में तुरन्त हि बिद्वेष का भाब उत्पप्न होता है ।

(२) महिष और अश्व के मल को गोमूत्र से मिश्रित कर उससे जिन दो ब्यक्तियो के नाम लिखे जाएं, उसको पत्थर के नीचे दबायें तो उनमें परस्पर बैर भाब उत्पन्न होता है ।

(३) महिष और अश्व के रक्त द्वारा शमशान के बस्त्र में जिनके नाम लिखकर उसे गाड देबें तो उन दो ब्यक्तियों में बिद्वेष होता है ।

(४) षट्कोण चक्र के मध्य में दो शत्रुओं के नाम लिखकर उसके ऊपर “ॐ नमो महाभैरबाय श्मशान बासिने अमुकामुकयो बिद्वेष कुरु कुरु हूं फट्” यह महाभैरब मन्त्र लिखने से उन दोनों शत्रुओं में परस्पर बिद्वेष होता है ।

आज की तारीख में हर कोई किसी न किसी समस्या से जूझ रहा है । हर कोई चाहता है कि इन समस्याओ का समाधान जल्द से जल्द हो जाए, ताकि जिंदगी एक बार फिर से पटरी पर आ सके । आज हम आपको हर समस्या का रामबाण उपाय बताएंगे, जिसे करने के बाद आपकी हर समस्या का समाधान हो जाएगा ।
समस्या का समाधान केलिये संपर्क करे : 9438741641(call / whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *