सट्टा मटका :

सट्टा मटका :

सट्टा मटका एक प्रकार का जुआ है जो भारत में खेला जाता है । यह एक तरीका है जिसमें लोग संख्याओं के साथ खेलकर पैसे जीतने की कोशिश करते हैं । इस जुआ का इतिहास काफी पुराना है और इसे लोगों द्वारा रोज़ाना खेला जाता है ।

हालांकि, मैं आपको सलाह दूंगा कि आप सट्टा मटका जैसे जुआ की बजाय अपनी ऊर्जा, समय और पैसों का बर्बाद न करे , इससे मन्न हट्टाकर कुछ सकारात्मक कार्यों पर ध्यान केंद्रित करें । इसके बजाय, आप अपने रोज़गार, शिक्षा, स्वास्थ्य और परिवार के साथियों के लिए कुशलतापूर्वक प्लान कर सकते हैं । इससे आपकी जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव आ सकते हैं और आप वास्तविक खुशियों और संतुष्टि का आनंद ले सकते हैं ।

 जिसने भी खेला सट्टा, भागने को न मिला रास्ता।
 जिसने भी किया सट्टे के अंकों का चयन, बह हो गया सदा इसी में मगन।
 अंकों के कागज सदा रहे आबाद, बिचारा खेलने बाला हुआ बर्बाद।
 अंकों के पीछे बहुत खरी खोटी सुननी पडी है, सामने देख पूरी जिंदगी पडी है।
 सट्टे में लगाई जिसने नोटों की गड्डी, ज्यादा खेलने पर फट गई उसकी चड्डी।
 सट्टा खेलने बाला जिस हाथ से रूपया देता है, बक्त आने पर उसी हाथ से रूपया लेता है।
 जो गिरा सट्टे के गड्डे में, बो पहुंचा भिखारी के अड्डे पे।
 जिसने भी किया इस गेम में ट्राय, लक्ष्मी ने उसे किया बाय-बाय ;साथ ही दुनिया ने कहा हाय-हाय।
 सट्टे में जिसने देखे ख्वाब, दुनिया कहे उसे बाप रे बाप।
 हमने खेला था एक बार सट्टा, हो गया हमारा जीबन खट्टा।

Facebook Page

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें।

Leave a Comment