शीघ्र गमन सिद्धि मंत्र :

शीघ्र गमन सिद्धि मंत्र :

सिद्धि मंत्र : “ओं बीर बैतालाय शीघ्र गमनायै गछ गछ, बेताल हुं हुं फट्।।”
यह एक सिद्ध कापालिक अनुभूत मंत्र प्रयोग है इसे सिद्ध करके ब्यक्ति बहुत तेज चल सकता है । बह ब्यक्ति एक घण्टे में हजारों मील की यत्रा पैदल ही कर सकता है, उसे थकान का अनुभब नहीं होता, न कोई मुशिक्ल ही पेश आती है । यह साधना अष्टमी से शुरू करें । पीले रंग का बस्त्र धारण करें लाल रंग का आसन प्रयोग करें । तेल का दीपक सामने जलाकर उत्तर दिशा की तरफ मुंह करके बैठें । साधना में हकीक की माला से १०८ बार रोजाना जप करें । यह साधना ३१ दिन की है, इसमें नियमित रूप से धूप आदि का प्रयोग कर, अकेले में साधना करें । साधना का स्थान एकांत मे होना चाहिए इस प्रयोग को सिद्ध कर लेने बाला ब्यक्ति चाहे जितना भी पैदल चले उसे भूख प्यास नहीं सताती न मौसम का ही प्रकोप होता है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment