सिद्ध शिव तांत्रिक यंत्र :
सिद्ध शिव तांत्रिक यंत्र :
March 26, 2021
सास-ससुर को अनुकूल बनाने का यंत्र :
सास-ससुर को अनुकूल बनाने का यंत्र :
March 26, 2021
सिद्ध भैरव तांत्रिक यंत्र :
सिद्ध भैरव तांत्रिक यंत्र :
तंत्र विद्या के सबसे बड़े देव भैरव की आराधना शीघ्र फल देने वाली है | भैरव अपने भक्तों की पाठ-पूजा से अतिशीघ्र प्रसन्न होकर उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते है | अधिकतर तांत्रिक, तंत्र विद्या में सिद्धियाँ प्राप्त करने के लिए काल भैरव की तंत्र पूजा करते है | बहुत से प्रसिद्द तांत्रिकों ने काल भैरव उपासना से सिद्धियाँ प्राप्त कर मानव कल्याण में उनका प्रयोग किया है | आज हम आपको भैरव के एक ऐसे तांत्रिक यन्त्र के विषय में जानकारी देने वाले है जिसे यदि विधिवत सिद्ध करके घर में पूजा स्थल पर स्थापित किया जाये तो घर से हर प्रकार की ऊपरी बाधाएं तुरंत दूर होने लगती है |
भैरव तांत्रिक यंत्र :
भैरव के इस शक्तिशाली तांत्रिक यंत्र को आप अपने घर पर ही बना सकते है | दिए गये चित्र के अनुसार एक मोटे कागज़ पर अष्टगंधा की स्याही से इस यन्त्र को बनाये | यंत्र में दिखाए गये स्थान पर वीं , ह्रीं , क्लीं , ह्रीं , रूं , कं और यन्त्र के मध्य में ॐ नमो वटुकाय लिखे |
चित्र में दिखाए गये यंत्र के अनुसार ही आप इस यंत्र को बना ले और इस पर अच्छे से लेमीनेशन करा ले |
भैरव तांत्रिक यंत्र को सिद्ध करने की विधि : –
यंत्र कोई भी हो चाहे वह हनुमान जी का हो या फिर बगलामुखी का हो या भैरव का तांत्रिक यंत्र, बिना यंत्र को सिद्ध किये वह प्रभावहीन रहता है | किसी भी यंत्र को सिद्ध करने के पश्चात् उसमें दैविक शक्तियों का समावेश होने लगता है | इसलिए भैरव का यह तांत्रिक यंत्र भी बिना सिद्ध किये प्रभावहीन ही रहता है | तो आइये जानते है भैरव के इस तांत्रिक यंत्र को सिद्ध करने की सरल विधि के विषय में |
एक चौकी की स्थापना करें | चौकी पर थोड़े फूल रखे व फूलों पर इस यंत्र को स्थापित कर दे | एक तेल का दीपक जलाएं | अब इस यंत्र पर चार बार थोड़े-थोड़े जल से छीटे लगायें | यंत्र को दूध से स्नान कराएँ, फिर शुद्ध जल से स्नान कराएँ | अब यंत्र को दही से स्नान कराएँ, फिर शुद्ध जल से स्नान कराएँ | अब थोड़े से शुद्ध देसी घी द्वारा यंत्र को स्नान कराए, व फिर से शुद्ध जल से स्नान कराएँ | ऐसा करने के पश्चात् अब इस यंत्र को शक्कर से स्नान कराये और बाद में शुद्ध जल से स्नान कराएं | इसके बाद यंत्र को शहद से स्नान कराएँ और फिर शुद्ध जल से स्नान कराएँ | और अंत में दूध,दही,घी ,शक्कर और शहद सभी को मिलाकर एक साथ यंत्र को स्नान कराएँ, व यंत्र को शुद्ध जल से अच्छे से धो ले |
यंत्र को कुमकुम से तिलक कर चौकी पर स्थापित कर दे | यंत्र पर थोड़े चावल अर्पित करें व मिठाई का भोग लगाये | इतना करने के पश्चात् हाथ में जल लेकर संकल्प ले और भैरव के इस मंत्र के लगातार 5000 जप करें | मंत्र इस प्रकार है : ॐ श्री बं बटुक भैरवाय नमः |
भैरव के उपरोक्त मंत्र के 5000 जप करने के पश्चात् फिर से हाथ में जल लेकर संकल्प ले और अपना स्थान छोड़ दे | अब इससे अगले दिन हवन का आयोजन करें और हवन में भैरव के इस मंत्र की अधिक से अधिक आहुतियाँ दे | और अंत में भैरव यंत्र को हवन कुंड के ऊपर से 21 बार वार ले |
इस प्रकार भैरव का यह तांत्रिक यंत्र सिद्ध हो जाता है | अब इसे अपने पूजा स्थल पर लाल कपडा बिछाकर स्थापित करें | प्रतिदिन पूजा के समय भैरव यंत्र का ध्यान करते हुए भैरव के उपरोक्त मंत्र के कुछ जप अवश्य करें |
घर में भैरव के इस सिद्ध तांत्रिक यंत्र को स्थापित करने से भैरव की विशेष कृपा उस घर में सदैव बनी रहती है | ऐसे परिवार के शत्रु स्वयं ही परास्त होने लगते है | घर से हर प्रकार की नकारात्मक शक्तियाँ दूर होने लगती है | ऐसे परिवार के सदस्यों में कभी आपसी कलह नहीं होते | आप भी अपने घर में भैरव के इस तांत्रिक यंत्र को स्थापित करें और इससे मिलने वाले चमत्कारों को स्वयं अनुभव करें | समय के अभाव रहते यदि आप इस भैरव यंत्र को घर पर सिद्ध नहीं कर पाते है तो आप हमसे संपर्क कर सकते है |
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार : मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}
जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *