सुसुलेमानी लाल परी साधना
सुलेमानी लाल परी साधना क्या है?
April 16, 2024
भूतभविष्य काल श्रवण साधना क्या है?
भूतभविष्य काल श्रवण साधना क्या है?
April 17, 2024
आवश्यक सामग्री – अप्सरा यंत्र व अप्सरा माला ।
यह साधना 3 दिन में संपन्न होती है इसे यदि रात्रि में करे तो ज्यादा उचित रहेगा ।
किसी भी शुक्रवार से प्रारंभ कर सकते हैं ।
साधक गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करें तथा स्वयं सुगंधित इत्र लगाकर बैठे ।
लकड़ी के वजोट पर श्वेत वस्त्र पर ताम्र या स्टील के पात्र में अप्सरा यंत्र स्थापित करें । यंत्र का पूजन करें तथा सुगंधित पुष्प व इत्र चढ़ाएं। घी का दीपक निरंतर जलता रहे ।
अप्सरा माला से नित्य 21 माला मंत्र जप करें ।
सुगंधमोदनी अप्सरा मंत्र : “ ऊं ह्रीं ह्रीं सुगन्धमोदिन्यौ ह्रींह्रीं फट् ”
मंत्र जप समाप्त होने पर दूध से बना नए वेद अर्पित करें तथा वह स्वयं ही ग्रहण करें ।
साधना पूर्ण होने के अगले दिन यंत्र व माला किसी नदी में प्रवाहित कर दें ।
यह अप्सरा साधक को हर क्षण नित्य नूतन रूप में प्रसन्न रखती है तथा उसे अपना साहचर्य प्रदान कर आनंदित करती है, यह अति शीघ्र ही सिद्ध हो जाती है ।

सम्पर्क करे (मो.) 9438741641 /9937207157  {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *