तंत्रोक्त सामग्री से व्यापर वृद्धि के सरल प्रयोग :
व्यवसाय में तंत्रोक्त सामग्री का उपयोग कैसे करें ?
March 12, 2024
जानिए गुलाब फूल का 10 रोचक टोटके :
जानिए गुलाब फूल का 10 रोचक टोटके :
March 12, 2024
हत्थाजोड़ी

मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी क्या है ?

हत्थाजोड़ी : हमारी सनातन संस्कृति में प्रकृति को परमात्मा सदृश मानकर उसकी आराधना की गई है । प्रकृति परमात्मा का ही अंग है इसीलिए हमने नदियों, पर्वतों एवं वृक्षों की पूजा की । हमारे वनस्पति शास्त्र में कई ऐसी दुर्लभ जड़ी-बूटियों का उल्लेख है जिन्हें प्राप्त कर पूर्ण विधि-विधान से सिद्ध कर लेने पर मनुष्य को आशातीत लाभ होता है । ऐसी ही एक अति-दुर्लभ जड़ी है ‘हत्थाजोड़ी’। जो मूल रूप में एक वृक्ष की जड़ होती है । दुरुपयोग की आशंका के चलते हम उस वृक्ष के नाम का उल्लेख यहां नहीं कर रहे हैं ।
‘हत्थाजोड़ी’ में वशीकरण की बड़ी अद्भुत क्षमता होती है । इसमें मां चामुंडा का वास माना गया है । इसकी आकृति मनुष्य के दोनों हाथ की बंद मुट्ठियों की भांति होती है । यह अत्यंत दुर्लभ जड़ है जो बहुत कम प्राप्त हो पाती है ।
प्राकृतिक ‘हत्थाजोड़ी’ को विधिपूर्वक पूर्व निमन्त्रित कर निकाला जाता है एवं विशेष मुहूर्तों जैसे रवि-पुष्य, गुरु-पुष्य, नवरात्रि, ग्रहणकाल, होली, दीपावली में विशेष मंत्रों द्वारा सिद्ध किया जाता है । सिद्धि के पश्चात् इसे चांदी की डिब्बी में सिंदूर के साथ रखा जाता है । इस प्रकार की मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी जिस व्यक्ति के पास होती है वह वशीकरण करने में सक्षम हो जाता है । उस पर मां चामुंडा की कृपा सदैव बनी रहती है ।

सिद्ध हत्थाजोड़ी के लाभ-

1. मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी पर अर्पित किए गए सिंदूर का तिलक करने से मनुष्य में वशीकरण क्षमता आ जाती है ।
2 . मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी को लाल रेशमी वस्त्र में बांधकर तिजोरी में रखने से धन की कमी नहीं रहती ।
3 . मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी को अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान में रखने व्यापार में वृद्धि होती है ।
4 .मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी के सम्मुख शत्रु दमन मंत्र का जप करने से शत्रु पीड़ा से मुक्ति मिलती है ।
5. मंत्र सिद्ध हत्थाजोड़ी के पास रहने से कोर्ट-कचहरी व मुकदमे इत्यादि में सफ़लता मिलती है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *