स्वर्ण देहा कर्ण पिशाचिनी साधना :
स्वर्ण देहा कर्ण पिशाचिनी साधना :
July 15, 2021
अघोरी आत्मा को प्रसन्न करने हेतु तांत्रिक साधना :-
अघोरी आत्मा को प्रसन्न करने हेतु तांत्रिक साधना :-
July 15, 2021
पिशाच पिशाचिनी सिद्धि साधना :
पिशाच पिशाचिनी सिद्धि साधना :
पिशाच पिशाचिनी सिद्धि साधना को बहुत ही खतरनाक साधना माना गया है | किसी भी पिशाचिनी साधना सिद्धि के बाद व्यक्ति को चमत्कारिक सिद्धि प्राप्त हो जाती है | नीचे दिए गए दो मन्त्रों में से कोई सा भी मंत्र आप सिद्ध कर लें , और चमत्कारिक सिद्धियों के स्वामी बन जाये |
इस उपाय को करने के लिए आप नहा धोकर साफ़ वस्त्र पहन कर किसी भी श्मशान पर नीचे बताये गए मंत्रो का जप करें | दशलक्ष जपने से सिद्धि की प्राप्ति होती है |
पिशाच सिद्धि साधना मंत्र – 1
“ओम प्रथ प्रथ फट् फट् हुँ हुँ तर्ज तर्ज विजय विजय जय जय प्रतिहत कटु कटु विसुर विसुर स्फुर स्फुर पिशाच साधकस्य में वंश आनय आनय पच पच चल चलस्वाहा|”
पिशाचिनी सिद्धि मंत्र – 2
“ओम फट् फट् हुँ हुँ अः भोः भोः पिशाच भिन्द भिन्द छिन्द छिन्द लह दह दह पच -पच मदर्दय मदर्दय पेषय पेषय धून धून महासुरपूजिते हुँ हुँ स्वाहा।”दशलक्षजपात सिद्धीः। रात्रौ उच्छिष्ट-मुखेन श्मशाने जपते |”
नोट : ध्यान रहे, इस साधना करने के दौरान आप किसी भी व्यक्ति को न देखें या कोई भी व्यक्ति आपको नहीं देखें | अन्यथा आपकी साधना निष्फल हो जाएगी | इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखें | ऊपर दिए गए मन्त्रों में से पहले मंत्र में आपको पिशाच का ध्यान करना है और दूसरे में पिशाचिनी का |
चेतावनी – यह मंत्र साधनाएँ आसान प्रतीत होती हैं किंतु इनके संपन्न करने पर मामूली सी गलती भी साधक के लिए घातक हो सकती है । साधक इन्हें किसी विशेषज्ञ गुरु के साथ ही संपन्न करें ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

सम्पर्क करे: मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *