आखिर क्यों नहीं परोसी जाती एक साथ 3 रोटियां :
आखिर क्यों नहीं परोसी जाती एक साथ 3 रोटियां :
August 2, 2021
आकर्षण एवं वशीकरण के प्रबल सूर्य मन्त्र :
आकर्षण एवं वशीकरण के प्रबल सूर्य मन्त्र :
August 2, 2021
आक (मदार) फूल से वशीकरण कैसे करें?
आक (मदार) फूल से वशीकरण कैसे करें?
‘आक-आकड़े-मदार’ का पौधा एक ऐसा पौधा है जो हमें विभिन्न चमत्कारी लाभ पहुंचाता है। यह कई औषधीय गुणों के अलावा ज्योतिष और धार्मिक महत्व से परिपूर्ण है। वैसे तो यह पौधा जंगलों में ही अधिकतर पाया जाता है लेकिन शहरों में भी कहीं खाली या बंजर जमीन में भी यह पनप जाता है। यह एक विषैले जाति का पौधा है और इसके पौधों से सफेद रंग का दूध भी निकलता है। आक के इस पौधे को आकड़ा, राजार्क व मदार के नाम से भी जाना जाता है।
 
@ पूर्णिमा वाले दिन रक्त गुंजा तथा सफेद आक की जड़ लेकर बकरी के दूध से घिसे। इससे प्राप्त पेस्ट से अपने मस्तिष्क पर तिलक करें तथा “ओम नमः श्वेतगात्रे सर्वलोक वंशकरि दुष्टान वशं कुरू कुरू (अमुकं) में वशमनाय स्वाहा” मंत्र का जाप करें। जिसे आप को वशीभूत करना है उस व्यक्ति का नाम ले इस मंत्र में अमुक के स्थान पर। इस मंत्र का पाठ ११ दिनों तक प्रतिदिन १०८ बार करें। अभीष्ट फल की प्राप्ति होगी।
@ आक की जड़, घुघुंची की जड़, शक्कर, तिल एवं गाय का घी लें। इन सब को मिलाकर हवन कुंड में १०८ बार आहुति दे और हर बार आहुती देने के पहले विष्णु मंत्र का जाप करें। साथ में जिसे आप को वश में करना है उसका ध्यान रखें एवं भगवान से इस कामना की पूर्ति हेतु प्रार्थना करते रहें। मंत्र है– “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय।”
@ प्रति सोमवार शिवालय जाएं। शिव जी का जल और कच्चे दूध से अभिषेक करें। आक का पांच फूल चढ़ाएं तथा जिसे वश में करना है उस की कामना करते हुए “ओम् नमः शिवाय” मंत्र का १०८ बार पाठ करें।
@ सफेद आक की जड़ लेकर आएं गणेश चतुर्थी वाले दिन। अब “ओम् गं गणपतये नमः” मंत्र द्वारा इसकी पूजा करें अनंत चतुर्दशी तक प्रतिदिन। हर दिन १०८ मंत्रों का जाप करें। जाप करते वक्त आपको जिसे वश में करना है उसका ध्यान रखें। आक (आकड़े/मदार) से वशीकरण का यह एक सरलतम परन्तु प्रभावशाली उपाय है।
@ ऐसे आक के पौधे का ध्यान रखें जिसमें फूल खिले हुए हो। आप किसी एक फूल से जुड़े हुए अगल-बगल जो दो पत्ते हैं उनमें से एक पर अपना तथा दूसरे पर जिसको वश में करना है उसका नाम लिख दें। नाम लिखने के लिए हनुमान जी के मंदिर के सिंदुर में घी मिला कर प्रयोग करें। अब पत्तों को मौली से आपस में मिलाकर इस तरह बांधे कि जुड़ा हुआ फूल उन पत्तों के बीच में ही रहे यानि पत्तों से वह बंद हो जाए। पत्ते आपको पेड़ से तोड़ने नहीं है यह ध्यान रखिएगा। इस क्रिया के करने के कुछ ही दिनों बाद आप को वशीकरण का फल देखने को मिलेगा।
@ श्वेतार्क का एक साबुत पत्ता तोड़ लें। अब श्वेतार्क के ही दूध से इस पर अपने शत्रु का नाम लिखें। फिर इसे मिट्टी के नीचे जमीन में दबा दें, वह शत्रु आपके वश में ही रहेगा। इस पत्ते को आप जल में प्रवाहित कर देते हैं तो शत्रु भी आपको छोड़कर दूसरी जगह चला जाएगा और इन पत्रों से अगर होम किया जाए तो केवल भगवान ही संबंधित व्यक्ति को बचा सकता है।
@ गोरोचन और श्वेतार्क की जड़ को मिलाकर घी से घस लें। अब इस पेस्ट से तिलक कर उस व्यक्ति के सामने जाए जिसे आप अपने वश में करना चाहते हैं। आक – आकड़े – मदार से वशीकरण का एक सरल एवं अचूक उपाय जिसके प्रभाव से बचना मुश्किल है।
@ ब्रह्म मुहूर्त में स्नानानोपरांत श्वेत आक के वृक्ष के नीचे बैठ जाएं तथा “ओम् गं गणपतये नमः” मन्त्र की एक माला का जाप करें प्रतिदिन। जाप करने के पूर्व जिसे आप वश में करना चाहते हैं उसका नाम लें तथा ईश्वर से अपने कार्य की सफलता के लिए प्रार्थना करें।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

सम्पर्क करे: मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *