सहदेवी के तांत्रिक प्रयोग :
सहदेवी के तांत्रिक प्रयोग :
December 20, 2021
Aries February 2022 Monthly Forecast :
Aries February 2022 Monthly Forecast :
December 22, 2021
सिद्ध सियार सिंगी का अचूक वशीकरण प्रयोग :
सिद्ध सियार सिंगी का अचूक वशीकरण प्रयोग :
क्या आप जानते हैं कि प्राचीन काल में घर में कई शुभ वस्तुएं रखी जाती थीं, उनमें से एक सियार सिंगी भी है। इन दिनों हर कोई ज्योतिष विज्ञान जानने का दावा करता है और कहीं से पढ़कर इस तरह की वस्तुओं के संग्रह की सलाह देता है। आइए आज हम आपको बताते हैं कि सियार सिंगी क्या है और इसे घर में रखने के क्या लाभ हैं?
सियार सिंगी बहुत ही चमत्कारी होती है। इसे घर में रखने से सकारात्मक उर्जा का अनुभव होता है।
सियार सिंगी बालों के गुच्छे की तरह होती है, असल में सियार के सींग नहीं होते परन्तु कुछ सियारों के नाक के ऊपर बालों का एक गुच्छा बन जाता है। धीरे धीरे वह कड़ा और बड़ा हो जाता है और सींग जैसा बन जाता है इसे सियार सिंगी कहते हैं और यह हजारों सियार में से किसी एक के नाक पर होता है।
इसमें वशीकरण की अद्भुत शक्ति होती है।
यदि इसे सिद्ध कर लिया जाए तो यह शक्ति हजारों गुना बढ़ जाती है।
इसके द्वारा आप किसी से भी किसी भी तरह का मनोवांछित काम करवा सकते हैं।
सियार सिंगी घर में रखने से सौभाग्य और उन्नति के नए द्वारा खुलने लगते हैं।
सियार सिंगी को घर में रखने पर शत्रु हथियार डाल देते हैं।
सियार सिंगी को सिद्ध कैसे करें –
किसी भी पवित्र शुक्ल पक्ष तिथि को एक जोड़ा सियार सिंगी लें। अपने सम्मुख एक लाल रंग का कपड़ा बिछा दें और उस पर सियार सिंगी को स्थापित कर दें। इसके ऊपर थोड़ा सा गंगा जल छिड़क कर इसे शुद्ध कर लें। सियार सिंगी के सम्मुख एक सरसों के तेल का दिया प्रज्वलित कर दें। एक लाल रंग का कपड़ा बिछाकर आप भी उस पर बैठ जाएं। अब सियार सिंगी के ऊपर कुछ चावल, पांच इलायची और पांच लौंग चढ़ाएं। ऐसा करने के बाद आप इस मंत्र का 2100 बार उच्चारण करें।
ॐ चामुंडाय नम:
जप पूरा होने पर अग्नि में 21 बार गुग्गल की आहुति दें।
सिद्ध सियार सिंगी मंत्र इस प्रकार है …
“ॐ नमो भगवती रुद्रानी चामुंडानि घोरानी सर्व पुरुष क्षोभनी सर्व शत्रु विद्रावनी।”
“ॐ आं क्रोम ह्रीं जों ह्रीं मोहाय मोहाय क्षोभय क्षोभय मम वशि कुरु वशि क्रीं श्रीं हीं क्रीं स्वः।।”
मंत्र उच्चारण संपन्न होने के बाद एक चांदी की डिबिया में इस सियार सिंगी को कपूर, मीठे सिंदूर, 5 लौंग और 5 इलायची के साथ रख दें। अब यह सियार सिंगी सिद्ध हो चुका है। इस डिबिया में थोड़े से चावल और उड़द दाल के दाने भी डाल दें। इस डिबिया को प्रतिदिन पूजा के स्थान पर रखें।
सियार सिंगी का प्रयोग :
इस सियार सिंगी को प्रयोग करने के लिए इस डिबिया से बाहर निकाल कर मंत्र का विधिवत उच्चारण करें और मां चामुंडा से कार्य सिद्धि हेतु निवेदन करें। सियार सिंगी वाली डिबिया में रखी इलायची का वशीकरण में प्रयोग किया जाता है। अगर आप किसी व्यक्ति को अपने वश में करना चाहते हैं या आप चाहते हैं कि वह आपके अनुरूप ही काम करे तो आप सियार सिंगी वाली डिबिया से कुछ इलायची निकाल कर उस व्यक्ति को खिला दें।
चेतावनी : इस प्रयोग से पूर्व किसी जानकार से सलाह अवश्य लें ।

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *