अघोर स्तम्भन तंत्र साधना :
अघोर स्तम्भन तंत्र साधना :
January 9, 2022
।। भूत-प्रेत बुलाने का मंत्र ।।
।। भूत-प्रेत बुलाने का मंत्र ।।
January 9, 2022
चमत्कारिक भूतेश्वर साधना :
चमत्कारिक भूतेश्वर साधना :
 
।। साधना मंत्र ।।
ओम आं भूतेश्वर: आगछ गछ स्वाहा।
 
बिधि : यह साधना सिद्ध साधक ही करते हैं जो प्रतिदिन शमशांनदि में रहकर तंत्र-मंत्र सिद्धियां किया करते हैं। उनके लिये यह साधना उपयुक्त है। सामान्य साधक इससे दूर ही रहे। इस साधना को कृष्ण पख्य में किसी भी रबिबार के दिन आधी रात में भगबान शिब के सामने बैठकर साधक उपरोक्त मंत्र का आठ हज़ार की संख्या में जाप करे। लेकिन यह साधना किसी एकान्त मे करें। क्योंकि इसमें मांस-मदिरा आदि चढाया जाता है या साधक के पास रखना अति आबश्यक है जब मांगा जायेगा तब दिया जायेगा। जब साधक प्रथम दिन आठ हज़ार जप पुर्ण कर लेगा तब यह सिद्ध होगा और सिद्ध होते ही साधक को प्रथम रात्रि में सप्नों में आकर दर्शन देगा। फिर दुसरी रात्रि में साधक के सामने प्रत्यख्य होगा। लेकिन भूतेश्वर दर्शन देने पर भी मौन ही रहेगा बोलेगा नहीं। इसके बाद तीसरी रात्रि में पुन: साधक के सामने प्रकट होकर नाना प्रकार के रुप धारण करेगा जो अत्यधिक भयंकर एबं डराबने होंगे। इन स्वरुपों को धारण करके साधक को भयभीत करने की कोशिश करेगा। अगर साधक उस समय भय के कारण घबरा गया या आसन छोडकर भागा तो साधना खन्डित ब भंग हो जायेगी। इससे संकट उत्पन्न हो जायेगा। जो साधक डरा हो या डरपोक हो उसे यह प्रयोग नही करना चाहिये। यह निडर एबं हिम्म्त बाले साधकों के लिये, ठीक रहती है। इस प्रकार अगर भूतेश्वर के प्रकट होने पर साधक नहीं डरा तो साधक को प्रेत पूछेगा कि मुझे कयों बुलाया है। तब साधक उसे तुरंत कहे कि तुम मेरे बश में और आधीन हो जाओ तथा मेरे बश रहकर मेरा कार्य करो और इसके बदले में, तुम्हें भोजन दुंग। जब भूतेश्वर साधक की इछानुसार बचन एबंग बर देवे तब उसे मंदिरा और मांस कि बलि प्रदन करे। इससें भुतेस्वर सिद्ध प्राप्त हो जायेगि और साधक की गुलामी जीबन भर करेगा।
 
नोट : बिना गुरु आज्ञा के ना करे । प्राणॉ से हाथ धोना पड सकता है. ईसके स्वयं जिम्मेदार होंगे ।
 
 

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *