दशहरे के दिन नारियल के 10 चमत्कारिक टोटके…
दशहरे के दिन नारियल के 10 चमत्कारिक टोटके…
March 12, 2022
आज का रशिफल सोम, मार्च 14, 2022 :
आज का रशिफल सोम, मार्च 14, 2022 :
March 14, 2022
नवरात्र के कुछ अचूक उपायों :
नवरात्र के कुछ अचूक उपायों :
शास्त्रो के अनुसार जीवन के सभी क्षेत्रो में सफलता प्राप्त करने के लिए माँ दुर्गा की आराधना परम सुखदायी है। नवरात्रि माँ दुर्गा को अत्यंत प्रिय है ।शास्त्रो में वर्णित है कि नवरात्रि में माँ दुर्गा अपने भक्तो के सभी कष्ट दूर करती है। ऐसा माना जाता है कि नवरात्र में किये गए सात्विक उपाय शीघ्र फलदायी होते है। यहाँ पर ऐसे ही नवरात्रि के अचूक उपाय दिए जा रहे है जिन्हें पूर्ण श्रद्धा एवं विश्वास से करने से जीवन में सुखो का वास रहेगा।
@ नवरात्रि में पूजा के समय प्रतिदिन माता को शहद एवं इत्र चड़ाना कतई भी न भूले । नौ दिन के बाद जो भी शहद और इत्र बच जाएँ उसे प्रतिदिन माता का स्मरण करते हुए खुद इस्तेमाल करें …..मां की आप पर सदैव कृपा द्रष्टि बनी रहेगी।
@ नवरात्र में माता दुर्गाजी को शहद को भोग लगाने से भक्तो को सुंदर रूप प्राप्त होता है व्यक्तित्व में तेज प्रकट होता है।
@ नवरात्री में माँ दुर्गा की आराधना “लाल रंग के कम्बल” के आसन पर बैठकर करना अति उत्तम माना गया है। इससे सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है ।
@ नवरात्र में स्थाई लक्ष्मी प्राप्ति के लिए नित्य पान में गुलाब की 7 पंखुरियां रखकर तथा मां दुर्गा को अर्पित करें ।
@ नवरात्र में प्रतिदिन नीचे दिए गए मंत्रो का ज्यादा से ज्यादा जाप करें ।
1 . “सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके । शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते “।।
2 . “ऊँ जयन्ती मङ्गलाकाली भद्रकाली कपालिनी ।दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते” ।।
@ नवरात्र में प्रात: श्रीरामरक्षा स्तोत्र का पाठ करने से हर कार्य सफल होते है,कार्यों के मार्ग में आने वाली समस्त विघ्न बाधाएं शांत होती हैं।
@ नवरात्रि को माँ दुर्गा के साथ बजरंग बलि की पूजा विशेष फलदायी है। इस दिन जो भी भक्त हनुमान चालीसा का पाठ करता है या सुंदरकांड का पाठ करता तो उसे शनिदेव भी नहीं सताते हैं। नवरात्रि में हनुमान ही की कृपा प्राप्त करने के लिए यह उपाय करें ।
@ नवरात्र के शनिवार को सूर्योदय के पहले पीपल के ग्यारह पत्तें लेकर उन पर राम नाम लिख कर इन पत्तों की माला बनाकर इसे हनुमानजी को पहना दें। इससे कारोबार की सभी परेशानिया दूर होती है ,यह प्रयोग बिलकुल चुपचाप करें।
@ यदि किसी जातक का लाख प्रयासों के बावजूद भी कर्जे से पीछा नहीं छुट रहा है तो वह नवरात्री में माँ के श्री चरणों में 108 गुलाब के पुष्प अर्पित करें। प्रात: माता की पूजा के समय सवा किलो साबुत लाल मसूर लाल कपड़ें में बांधकर अपने सामने रख दें। घी का दीपक जलाकर माता के किसी भी सिद्ध मंत्र का 108 बार जाप करें। पूजा समाप्त होने के पश्चात मसूर को अपने ऊपर से 7 बार उसार कर किसी भी सफाई कर्मचारी को दान में दे दें। इससे माता की कृपा से कर्जें से छुटकारा मिलने का रास्ता बनने लगेगा ।
@ यदि किसी व्यकित के ऊपर कर्ज है और लाख चाहने के बाद भी उतर नहीं पा रहा है तो वह जीवन भर का एक नियम बना ले कि उसे नित्य चींटीयों को शक्कर मिलाकर आटा / या पंजीरी ( आटे में चीनी को भून कर ) किसी पेड़ के नीचे या जहाँ पर चींटियों का बिल है वहाँ पर डालना है । इस प्रयोग को लगातार करते रहने से कर्ज समाप्त हो जाता है फिर इतनी आमदनी होने लगती है कि कर्ज को भविष्य में लेने की जरूरत ही नहीं रहती है। इस प्रयोग को अगर किसी शुभ मुहूर्त , नवरात्र में किया जाय तो इसका शीघ्र ही फल मिलता है ।
@ नवरात्रि में दिल खोलकर आप अपनी श्रद्धा और सामर्थ्य के अनुसार दान पुण्य करें …इन दिनों आपके द्वारा दान पुण्य करने से उसका अक्षय फल प्राप्त होता है । आप प्रतिदिन छोटी कन्याओं को कोई न कोई उपहार अवश्य दें । अपने माता पिता, बहन-भाई और पत्नी को भी कोई न कोई उपहार देकर चकित जरुर करते रहें, गरीब और असहाए की मदद करने का मौका तो बिलकुल भी न गवाएं। यकीन मानिये उन सभी के मुख से आपके लिए शुभ वचन निकलते ही रहेंगे ।
@ आपने माता का आह्वान किया है उन्हें अपने घर में बुलाया है इसलिए सुबह शाम जो भी घर में भोजन बनायें सबसे पहले उसका देवी माँ को भोग लगायें उसके बाद ही घर के सदस्य उसका सेवन करें याद रहे माता या किसी भी मेहमान को भूखा न रखें ।
@ नवरात्र में आप अनावश्यक व्यय से बचें लेकिन यदि संभव हो तो इन दिनों सोने चाँदी के गहने, कपड़े, बर्तन आदि कुछ न कुछ नया सामान अपनी सामर्थ्य के अनुसार अवश्य ही खरीदें तथा इसे उपयोग में लाने से पहले माता के चरणों में लगायें। इससे घर में सुख सौभाग्य आता है स्थाई संपत्ति का वास होता है।
@ घर के छोटे बच्चो विधार्थियों से माता दुर्गा को केले का भोग लगवाएं फिर उनमे से कुछ केले दान में दे दें एवं बाकी केलो को प्रसाद के रूप में घर के लोग ग्रहण करें इससे बच्चों की बुद्धि का विकास होता है।
@ नवरात्र में दो जमुनिया रत्न लेकर उसे गंगा जल में डुबोकर घर के मंदिर में रखे फिर हर शनिवार को माता दुर्गा का स्मरण करते हुए उस जल को पूरे घर में छिड़क दें, घर के सदस्यों के बीच में प्रेम बड़ने लगेगा । इसके बाद पुन: इन रत्नों को गंगा जल में डुबोकर मंदिर में रख दें ।इस प्रयोग को नवरात्र से ही शुरू करें तो अति उत्तम है।
@ नवरात्र में एक नए झाड़ू की दो सीकों को उल्टा सीधा रखकर नीले धागे से बांधकर घर के नैत्रत्य कोण ( दक्षिण पश्चिम हिस्सा ) में रखने से पति पत्नी के मध्य प्यार बड़ता है।
@ नवरात्र के सोमवार और शनिवार के दिन शिवलिंग पर काले तिल और जल चढ़ाएं यह उपाय बीमारियों से मुक्ति दिलाने वाला बहुत सरल और कारगर उपाय है।
@ नवरात्री की सप्तमी के दिन माँ कालरात्रि की पूजा की जाती है । माँ कालरात्रि की कृपा के लिए दुर्गा सप्तशती के 7वें और 10 वें अध्याय का पाठ करना चाहिए । माँ कालरात्रि की कृपा से शत्रुओं का नाश होता है राजद्वार, मुक़दमे में विजय मिलती है ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *