कंठ शूल :
कंठ शूल :
April 29, 2022
मोहन प्रयोग :
मोहन प्रयोग :
May 3, 2022
मारण प्रयोग :
मारण प्रयोग :
 
भगबान त्र्यम्बक महेश ने साधक शिबगिरि को शरीर रख्या तथा दुष्टों के बिनाश के लिए मारण मंत्रों के प्रयोग का उपदेश दिया। ये मारण मंत्र संखिप्त रूप मे इस प्रकार हैं—
 
महादेब बोले — अब मारण प्रयोग कहता हुं जिससे कि मनुष्यों को तत्काल सिद्धि होगी। है मुने ! साबधान होकर तंत्र के मारण प्रयोगों को सुनो।
 
बृथा, बिना अति दुष्कर परिस्थितियों में फंसे, चाहे जिसका मारण कभी न करना चाहिए। जिसे ऐश्वर्य की इछा हो ऐसे आदमी को जब प्राण संकट में हों, तभी इसका प्रयोग करना चाहिए।
 
“सब संसार ब्रह्मारुप है”, यह ज्ञानरूपी नेत्रों से देखकर मारण प्रयोग करना चाहिए, नहीं तो दोष होता है।
 
मूर्खो अज्ञान से प्रयोग करे तो बह प्रयोग उस प्रयोगकर्ता को ही नष्ट कर देता है, इसलिए मात्र अपनी रख्या करे और मारण प्रयोग जहाँ तक हो सके कभी न करे।
 
यदि मारण करना ही एकमात्र साधन रह जाए तो दुष्ट के नाश के लिए मारण का प्रयोग इस प्रकार से करे- मंगल के दिन शत्रु ने जिस स्थान में अपना पैर रखा हो, बहाँ की धूल लाबे। उस मिट्टी में गोमुत्र मिलाकर शत्रु की मूर्ति बनाबे और नदी तीर पर एकान्त मे बेदी पर उसे स्थापित करे। उसकी छाती में अत्यन्त कठिन लोहे का त्रिशूल गाड दे और उसकी बाई और बलि देकर कालभेरब का प्रतिदिन पूजन करे।
 
बहाँ ग्यारह बालकों को उत्त्म अन्न से भोजन कराये और उस मूर्ति के आगे सरसों के तेल का ऐसा दीपक जलाये जो दिन-रात जलता रहे। ब्याघ्रचर्म का आसन बिछाकर उसके दखिण की और बैठे और रात्रि को दखिण दिशा की और मुख करके साबधान होकर इस मंत्र को जपे।
 
“ॐ नमो भगबते महाकालभैरबाय काकाग्नितेजसे अमुकं मे शत्रुं मारय मारय पोथय हुं फट् स्वाहा” ।।
 
मारण के लिए उपरोक्त मंत्र का जप करना चाहिए ।(मंत्र में “अमुक” के स्थान पर शत्रु का नाम साधक बोले।)
 
रात को साबधान होकर यह मंत्र दस हजार बार जपे तो निश्चयपूर्बक उनतीस दिन में मारण होगा।
 
इस प्रकार यह मारण तंत्र मनुष्यों को तत्काल सिद्धि देने बाला है। साधक को सदैब साबधान रहना चाहिए तथा ब्यक्तिगत स्वार्थ के लिए भूलकर भी मारण प्रयोग नहीं करने चाहिएं। इस बिद्या का उपयोग लोक कल्याण के लिए तभी करना चाहिए जब अन्य किसी प्रकार से कार्य सम्भब ही न हो। मारण प्रयोग कभी भी गुरु के निर्देश के बिना नहीं करने चाहिएं। इन प्रयोगों मंस जरा सी भी चूक रह जाने पर साधक के प्राण सकंट में पड सकते हैं।
 
 

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *