आसन हेतु मंत्र :
आसन हेतु मंत्र :
September 2, 2022
गर्भ स्थान हेतु मंत्र :
गर्भ स्थान हेतु मंत्र :
September 2, 2022
किया कराया परिचय हेतु मंत्र :

किया कराया परिचय हेतु मंत्र :

ॐ ऑकार सतगुरु प्रसादि, दुहाई खुदा दी, दुहाई रसूल दी,
दुहाई पीर पैगंबर की ।दुहाई हजरत अली की , दुहाई अम्बर
की ,दुहाई मुहम्मद हनी फ़क़ीर की ।दुहाई इक लख अस्सी
हजार पैगंबर दी , दुहाई बाबन बीर की । दुहाई चौसठ योगिनी ,
चौरासी सिद्ध नब नाथ की ।साहापरी ,बुबपरी, तख़्त परी,
हुरपरी , नूरपरी , लालपरी , सफ़ेदपरी , साहापरी की दुहाई ।
कौन कौन पकड़ चले ,आगे कलुबा बीर चले ,
पीछे मुहम्मद बीर चले , हनुमंत बीर चले , लंकु ढीपा बीर
चले ,अंगद चले ।बाबाण बीर ,चौसठ योगिनी ,सिद्ध नौ नाथ
हजरत साह भी ।मके बान नदी नाब का पूरा देब भूत,
जिन ख्बीसा । देबणी, भूतणी जिननी खबीसणी ।
चुडेल के लागे तीर ,अटठाइस ठाम नौ सुता जौऊ।
मढ़ी मसानी रखेबिरख बेग से , पकडिली आऊ। सिद्ध भेरों
श्री बाला जती ,भेरों श्री बाला जती ,भेरों जती, लक्ष्मण
जती, कुमार जती, डोडा जती ,शुक्र जती ,हणबंत जती ,
अंगद जती ,भेरों भबाल क्षेत्रफाल ,कालका माई का पूत ।
चढ़ी भट्ट्ठी का जैतबार रौसा चले , जैसे नदी नाब का तीर ।
जिन , भूत को देब को ,पलीत को खबीस को , डाकिणी
को ,सिहारी को । चार खुट सैहं कारिलि आऊँ।
बंद करे ,सिर चढ़ खेले , मुख चढ़ बोले ।गुरु की शक्ति
हमारी भक्ति ।फुरो मंत्र ईशवर महादेब तेरी बाचा फुरै ।।

बिधि : साधक सर्ब प्रथम होली दिपाबली पर्ब पर या ग्रहण काल में मंत्र जपकर सिद्ध कर लें ।पुनः इस सिद्ध मंत्र को उचारित करते हुए फूंक मारने पर रोगी पर सभी किया कराया अपना सही सही परिचय देता है ।

यदि आप को सिद्ध तांत्रिक सामग्री प्राप्त करने में कोई कठिनाई आ रही हो या आपकी कोई भी जटिल समस्या हो उसका समाधान चाहते हैं, तो प्रत्येक दिन 11 बजे से सायं 7 बजे तक फोन नं . 9438741641 (Call/ Whatsapp) पर सम्पर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *