Auto Draft
कृत्या साधना :
October 4, 2022
भूत ज्वर :
भूत ज्वर :
October 4, 2022
Auto Draft

चम्पा फूल मोहिनी :

ॐ नमो आदेश
कामरू देश कामाख्या देबी
जहाँ बसे इस्माइल योगी
योगी ने लगाई फुलबारी फूल लोढ़ लोना चमारी
एक फूल रायी एक फूलमती
एक फूल हंसी का फूल मुस्काय
तहाँ लग चम्पा का गाछ
चम्पा के गाछ में काला भंबरा रहाय
जो भूत प्रेत मरे मसान में आबे
यह किसके काम आबे
टोना टामन के कामन पठाऊ
काल भैरों जो लाबे
मुश्के बाँध बैठी हो तो भगाय लाबे
सोबती होय तो जगाय लाबे
यह सोबता राजा के महलां
प्रजा के पलंग तो मुझसे लेनी
रानी यह फूल दूँ
जिसके हाथ बह लौंग मेरे साथ
हमको छोड़ पर घर जाय
छाती फाटी बहीं मर जाय
इसमें चुके उमाह सूखे लोना चमारी
बाहरी योगी के कुण्ड में पड़ जाय
बाचा छोड़ कुबांरा जाय तो
नरक खार में गिर जाये ।

शनिबार की सायंकाल को चम्पा के पेड़ को न्योता देकर शाखा में लाल कचा सूत बांध के चला आबे फिर रबिबार को बही शाखा फूल सहित ले आबें और धूप दीप गुगुल नैबेद्य रखकर 11 दिन तक नित्य 121 बार मंत्र पढ़कर पूजन करे और 121 बार सुगन्धित द्रब्य समिध में हबन करे।मदिरा , उड़द, तेल , गुड ,दही का भोग लगाबे फिर जिसे चम्पा का फूल मंत्र पढ़कर दें बह सूंघते ही बशीभूत हो जाता है ।

वशीकरण या जीवन की किसी भी समस्या के तांत्रिक समाधान के लिए संपर्क करे 9438741641 पर और पाइये हर समस्या का समाधान.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *