प्राचीन टोटके :
प्राचीन टोटके :
November 18, 2022
अलौकिक हरसिंगार :
अलौकिक हरसिंगार
November 18, 2022
गरुड़ :

गरुड़ :

बनस्पति जगत् के गरुड़ बृक्ष को तंत्र में उत्कृष्ट पाया गया है ।यह बृक्ष सम्भबत: भारतबर्ष में कहीं –कहीं हो सकता है ।यह बिशालकाय बृक्ष होता है ।गरुड़ रायपुर जिले में नबापारा क्षेत्र में, बस्तर जिले के पहाड़ी क्षेत्र, दन्तेबाड़ा और भोपालपटनम के बन अधिकार क्षेत्र में उपलब्ध है ।इस बृक्ष का प्रयोग हमने कुछ समस्या निबारण के लिए किया तो अच्छा प्रमाण सामने आया है ।प्रस्तुत हैं बिभिन्न प्रयोग :

१. बिषहरण – अगर किसी को जहरीले साँप ने काट लिया हो तो इस गरुड़ बृक्ष की केबल छाल को पीसकर पीड़ित ब्यक्ति को पिलाने से साँप का जहर उतर जाता है ।

२. ऊचाटन के लिए – अगर किसी परिबार में कलह – झगड़ लड़ाई करबाना हो तो इसकी जड़ को केबल उस ब्यक्ति के घर में डाल देने से उचाटन होता है ।

३. समृद्धिदायक गरुड़ बांदा – गरुड़ बृक्ष में लगा बांदा (ध्यान रहे बांदा एक परजीबी बनस्पति है ,अलग बनस्पति है ) मिले तो इसे असली एकाक्षी नारियल के साथ पीले कपडे में लपेटकर रखें । ब्यक्ति को समृद्धशाली बनाने में बिजोड बस्तु है ।

४. दूकान के लिए : किसी की दुकान अच्छी चलते – चलते अचानक बिक्री बन्द हो जाती है तो समझो की उसकी दुकान में टोटका लग गया है ।इस तरह की समस्या जब हो तो गरुड़ की ६ इंच की लकड़ी को दुकानमें ठोक दें समस्या का निबारण अबश्य होगा ।

५. सर्बमंगलकारी कार्यो के लिए : इसके लिए गरुड़ के फूल, अनार के सात पत्ते और असली सियारसींगी को साथ रखना ही सर्बमंगलकारी होता है (ध्यान रहे सियार्सींगी आज नकली मिल रहा है, इससे बचें )

६. शानिदोष निबारण के लिए : शनिदोष निबारण के लिए गरुड़ बृक्ष का फल घर पर रखना हितकर है (गरुड़ का फल लम्बा और सर्प की आकृति में होता है ) ।

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *