समुद्री काली कौड़ी
November 18, 2022
गरुड़ :
गरुड़ :
November 18, 2022
प्राचीन टोटके :

प्राचीन टोटके :

१. गुरु प्रसन्नता के लिए : गुरुघर की कुच्छ , बाघ की पुच्छ ।
२. देब प्रसन्नता के लिए : गाय घर की माटी, पहला धान का साठी ।
३. सूर्यदेब प्रसन्नता के लिए : तामा की पतरी, पाणी की थर – थरी ।
४. चन्द्रदेब प्रसन्नता के लिए : काचा औलां, पक्यां स्बौला ।
५. मंगलदेब प्रसन्नता के लिए : लाल बुन्दी, माथा की बिन्दी ।
६. बुद्धदेब प्रसन्नता के लिए : मूँग की दाल, हरी शाल ।
७. बृहस्पति प्रसन्नता के लिए : चर्णों का साग, फिंगुल फाग ।
८. शुक्र प्रसन्नता के लिए : सफ़ेद तिल, खरगोंस का बिल ।
९. शनि प्रसन्नता के लिए : सरसों का तेल, नीम का छेल ।
१०. राहु प्रसन्नता के लिए : जिमीगंन्द एकला, द्वी टुकड़ा कर दाया ।
११. केतु प्रसन्नता के लिए : सतनाजा कठा करो, चौबाटा मा उसको धरो ।
१२. श्री नृसिंह प्रसन्नता के लिए : टेमरू का सोटा, नेपाली चिमटा ।
१३. श्री शिब प्रसन्नता के लिए : काली हींग, शिब कुलींग ।
१४. श्री भगबती प्रसन्नता के लिए : खाडू कू सींग, भैसा कु मुंड ।
१५. श्री लक्ष्मी प्रसन्नता के लिए : कच्ची फसल घर ल्या, पहली बीं चढे दाय ।
१६. श्री गणेश प्रसन्नता के लिए : अखरोट का चाना, चूहे का खाना ।
१७. श्री बिष्णु प्रसन्नता के लिए : चन्दन की छाली, तुलसी की डाली ।
१८. श्री ब्रह्मा प्रसन्नता के लिए : सफ़ेद धोती, कपाल माँ चोटी ।
१९. सर्बबाधा के लिए : बाघ की खाल, घोड़े की नाल ।
२०. दूध बढाने के लिए : तिल की खांड, भात कुमांड ।
२१. दरबाजे के लिए : भोज कू पतर, बांझा कूकतर ।
२२. सुख शान्ति के लिए : लाल चन्दन घर ला, घिस के रोज खोपड़ी ला ।
२३. धन बढाने के लिए : कमा के रोज जो ला, कन्या के हाथ उसे थमा ।
२४. भूख बढाने के लिए : पुदीना की चटनी ला, कोदा की रोटी खा ।
२५. भूख घटाने के लिए : दूध घी खूब पी, दारु माँस कर छी ।
२६. तन्दूरुस्ती के लिए : बुरांस का फूल ला, फल समझ के खायी जा ।
२७. खांसी ठीक के लिए : काचा पाका बेहडा ला, बाणी उबाल कर पीजा ।
२८. पीलिया ठीक के लिए : गत्रा की पीरो ला, रोज उसको चूसते जा ।
२९. नजर हटाने के लिए : साँप की कुच्छ, बिल्ली की पुच्छ ।
३०. बिष उतारने के लिए : सरसों का तेल, मिर्चो को फेर ।
३१. कटने पर आने के लिए : चूहे का कुत्र, स्वयं का मूत्र ।
३२. चोट लगने पर : लोहा घसा, लेप ला ।
३३. रिंगाल के काटने पर : पानी की खाटी, बल्मीकि माटी ।
३४. बच्चों के नजर पर : एक लाल धागा ला, गले में उसकों बाँधी डाल ।
३५. भूत भगाने के लिए : घी का खूब धुंआ ला, हनुमन्त का नाम ला ।
३६. मंत्र साधने के लिए : गैडी का म्बार, गुरु का घर ।
३७. मंत्र प्राप्ति के लिए : बाघ की खाल , ऊन की शाल ।
३८. कमर दर्द के लिए : गरम घी, रोज पी ।
३९. सिर दर्द के लिए : हल्दी पीस, घी को घीस ।
४०. बुखार के लिए : आदा ला, शहद माँ प्या ।
४१. कान दर्द के लिए : गर्म तेल, कान में उघेल ।
४२. नाक दर्द के लिए : थोडा कोसा हल्दी तेल, फिर नाक में दे उघेल ।
४३. दाढ़ दर्द के लिए : लोण मंत्र दांता नु कुतर ।
४४. शरीर दर्द के लिए : सुबह शाम कर ब्यायाम ।
४५. बबासीर के लिए : कुछ खा गम, मसाला कम ।
४६. रास्ता चलने के लिए : ॐ नमो चंडी माई, हनुमान क्या साथ नि आयी ।
४७. लड़ाई कराने के लिए : उल्लू की खाल, कागा की छाल ।
४८. बशीकरण के लिए : सात लौंग मंतरी दाय, अपणा हाथ न खेले दाय ।
४९. मारने के लिए : औसी को चाटी, शमशान की माटी ।
५०. ठीक करने के लिए : श्मशान में जा, उल्टी करके आ ।
५१. घर आने के लिए : माँ को तू याद कर, सिर उसके चरण धर ।
५२. परदेश जाने के लिए : दाई तरफ भांडी भर , प्रदेश कू नौ धर ।
५३. बिबाह के लिए : गौरी माई के दौऊ लाल , दोनों के हाथ लड्डू थाल ।
५४. नौकरी के लिए : नमो नम: लक्ष्मी माई , हमारी तू कर भलाई ।
५५. मुकदमा जीतने के लिए : सागर में पीली माई , जिसका नाम बगला माई ।
५६. घोर संकट के लिए : आजा मेरे भैरब भाई , तू है मेरा माई भाई ।
५७. बारात प्रस्थान के लिए : अम्बा पुत्र गंगू लाल, हमारे सारे बिघ्न टाल ।
५८. बारात बापस आने के लिए : कुलदेब तुझे दुहाई , बारात हमारी घर पौचाई ।
५९. झगडा टालने के लिए : राम लखन दोऊ भाई , उनसे कौन जीत पाई ।
६०. घोर बीमार पड़ने पर : जो शिब की शरण जाई , मृत्यु उसकी क्या कर पाई ।

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *