साली को वश में करने का चमत्कारी मंत्र उपाय :
साली को वश में करने का चमत्कारी मंत्र उपाय :
October 24, 2021
सपने में नेवला देखना :
सपने में नेवला देखना :
October 27, 2021
सपने में दांत टूटते हुए देखते हैं तो :
हम सभी सपने देखते हैं। कभी अच्छे तो कभी बुरे, परंतु सपने आते जरूर हैं। ज्यादातर सपने देखकर व्यक्ति सपने भूल जाता है। परंतु बहुत बार ऐसा होता है कि हमारा देखा हुआ सपना हमें याद भी रहता है और किसी घटना को भी दर्शाता है।
सपनों का दिखना और उनका याद रहना या तो आने वाली किसी विशेष घटना की तरफ संकेत देता है या हमारे साथ हो चुकी घटना या हमारे आसपास के माहौल को दर्शाता है। हमने अक्सर अपने घर के बड़े-बुजुर्गों को कहते सुना है कि सुबह के सपने अक्सर सच होते हैं। परंतु सही मायने में ऐसा कोई भी सपना जिसमें कोई विशेष घटना या कोई वस्तु दिखाई दें तो ऐसा सपना किसी खास परिस्थिति जो हो चुकी हो या होने वाली हो, उसकी ओर संकेत देता है।
ऐसा ही एक सपना है दांत टूटने का, जो अक्सर लोगों को दिखाई देता है। बहुत से लोग इसे देखकर अनदेखा कर देते हैं। यह सोचकर कि यह एक महज इत्तेफ़ाक़ हैं। परंतु दांत टूटने का सपना एक बहुत ही गहरा अर्थ रखता है, जो हमारी जिंदगी से बहुत मायनों से जुड़ा हैं। आइए जानते हैं दांत टूटने के सपने से जुड़े कुछ अर्थ को।
हमने अक्सर ऐसा सुना होगा कि दांत टूटने का स्वप्न आने वाली बीमारी, संकट या किसी कष्ट को दर्शाता है, पर क्या यह सच है? क्या सही में दांत टूटना आने वाली किसी परेशानी की ओर संकेत करता है?
जब हम छोटे बच्चे होते थे तो दूध के दांत गिरने के बाद हमें नए और ज्यादा मजबूत दांत आने लगते हैं और नए दांत भी तभी आ पाते हैं, जब पुराने दांत टूट जाएं। नया दांत जो और भी ज्यादा मजबूत आता है, वह हमारे साथ लगभग जिंदगीभर साथ देता है।
इसी तरह जब कोई व्यक्ति दांत टूटने का सपना देखता है तो वह उसके जीवन में आने वाले नए अवसरों की ओर इशारा करता है। इसके अतिरिक्त यह भी मायने रखता है कि किसी व्यक्ति ने सपना किन परिस्थितियों में देखा था। पर अगर हम सामान्य रूप से देखें तो दांत टूटने का स्वप्न एक बहुत ही अच्छा ओर नवीनता दर्शाने वाला स्वप्न माना गया है।
 

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *