मृत्यु काल ज्ञान क्या है?

Mrityu Kaal Gyaan के इस लेख में यंहा एसा कुछ लक्ष्ण दे रहे है , जो आप इस लक्ष्ण को देखकर मृत्यु कब होगा आप आसानी से पता कर सकते हो । बहुत तद्बीरो से मृत्यु के बहुत पहले भी मृत्यु का समय जाना जा सकता है । यह सब बाते लक्षण के उपर मुनहसिर है । निचे निम्न लिखित mrityu kaal gyaan के आधार पर आप लक्ष्ण को पता करके मृत्यु का पता लगा सकते हो , तो चलिए निम्न लिखित mrityu kaal gyaan लक्षण पर दृष्टि गोचर करते हैं …

Mrityu Kaal Gyaan Lakshan :
(क) अगर कोइ पुरुष उतर दिशा को जाते 2 रास्ता भुलकर दक्षिण दिशा को चला जाय तो एक बर्ष के भीतर उसकी मृत्यु होगी ।
(ख) अगर किसी पुरुष को  दर्पण मे चंद्र सुर्य और संसार मे छेद नजर मे आबे तो एक बर्ष मे उसकी मृत्यु होगी ।
(ग) स्नान करते ही जिस पुरुषका ह्रुदय सुखजाय और धुआंसा निकलना आरम्भ हो ,सात महिने के बीच मे उसकी मृत्यु हो जाय ।
(घ) जो पुरुष अपनी परछाइ छाती तक देखे, बह छ: महीने के बीच मे मर जायगा ।
(ङ) केबल जिसके माथे और भौमे पसीना आबै उसकी मृत्यु एक महीने मे हो जाय ।
(च) अगर किसी पुरुष के दोनो होठ और तालुआ सुष्क हो जायै उसकी मृत्यु, जिन्द्गी छ: महीने की जानो ।
(छ) जिसकी नाक के दाहिने स्वर मे दिनरात सांस चलता रहे, उसकी मौत तीन दिन के अन्दर हो जाती है ।
(ज) जिसके सांस दोनो नथनो से बराबर निकलते हुए दश दिनतक चलते हैं, बह केवल दो दिनतक जियेगा ।
(झ) जिसका सांस नाक को छोडकर केवल मुख के द्वारा निकले बह सिर्फ एक दिन तक जीता है ।
(ञ) जिसकी देह अचानक कांपे ,चार महीने के भीतर ही उसकी जिन्दगी खतम हो जाय ।
मंत्र विद्या के बल से जो अजायब ताकते पैदा हो जाती है, उनको हमने लिखा । जब एक ही उपाय से कार्य सिद्ध हो जाय तो बहुत से तरीको के सीखने की क्या जरुरत है ? लेकिन तंत्रो मे और भी बहुत तदबीरे लिखि है ।
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार : (Mob) 9438741641 /9937207157 {Call / Whatsapp}
जय माँ कामाख्या

Leave a Comment