अभिचार नाशक अघोर मंत्र :
अभिचार नाशक अघोर मंत्र :
March 14, 2024
रंजिनी अप्सरा साधना :
रंजिनी अप्सरा साधना का मंत्र क्या है?
March 15, 2024
अघोरी वशीकरण मंत्र साधना :

अघोरी वशीकरण मंत्र साधना कैसे करें ?

अघोरी वशीकरण मंत्र साधना बेहद कठिन होती है । अघोरी कई दिनों तक बिना कुछ खाए-पीए हिमालय के पर्वतों पर और भीषण जंगलो मे ध्यान लगाकर ऋद्धि-सिद्धी प्राप्त करते है । कुंभ आदि मेलों में अघोरी बाबाओं को विशेष महत्व दिया जाता है । अघोरी साधक आमतौर पर तीन प्रकार की साधना करते है- शिव साधना, शव साधना और शमशान साधना ।
ये अघोरी वशीकरण मंत्र साधना कोई आम व्यक्ति नहीं कर सकता । क्योंकि अघोरी वशीकरण मंत्र साधना के दौरान कई प्रकार की दैत्य शक्ति सक्रीय हो जाती है, जिनसे किसी इन्सान की मृत्यु भी हो सकती है । लेकिन आप अघोरी बाबाओं द्वारा सिद्ध की गई साधना का इस्तेमाल अपने जीवन में चल रही परेशानियों को दूर करने के लिए कर सकते है । अघोरी वशीकरण मंत्र साधना इस प्रकार है-
अघोरी बाबा अपनी साधना में कई विचित्र चीजों का इस्तेमाल करते है। अघोरी वशीकरण मंत्र साधना में उल्लू के नाखून का इस्तेमाल किया जाता है। इसकी मदद से आप किसी भी स्त्री या पुरुष का खतरनाक वशीकरण कर सकते है। इस साधना के लिए आपको सबसे पहले उल्लू के एक नाखून का जुगाड़ करना होगा। साथ ही आपको थोड़े से सिंदूर और एक सफेद कपड़े की आवश्यका भी पड़ेगी।
अघोरी वशीकरण मंत्र साधना के लिए उल्लू के नाखून को सिंदूर में भिगोकर सफेद कपड़े पर इच्छित पुरूष या स्त्री का नाम लिखे। ये साधना आमतौर पर सच्चा प्यार पाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। सफेद कपड़े पर सिंदूर से नाम लिखने के बाद उल्लू का नाखून कपड़े के अंदर ड़ालकर तीन गांठ मार दे।
इसके बाद किसी सुनसान स्थान पर जाकर वह कपड़ा जला दे। ध्यान रखिए कपड़ा जलाते हुए आपको कोई देख ना ले, अन्यथा आपकी साधना सफल नहीं होगी। यह अघोरी वशीकरण साधना आपको कृष्ण पक्ष के शनिवार के दिन अपनानी है। इस साधना को करने का उपयुक्त समय रात्री 12 बजे बताया गया है।
चेतावनी:-
यहाँ कुछ शब्द गोपनीय रखे है , दुरुपयोग न हो इसलिये मन्त्र नही दिया गया । यह साधना जानकारी हेतु है।सिद्धि का गलत उपयोग न करे।किसी लालच के वशीभूत होकर साधक यह साधना न करे । योग्य गुरु के निर्देशन में ही करे ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *