भाग्योदय हेतु अनुभूत मंत्र

भाग्योदय हेतु अनुभूत मंत्र :

भाग्योदय हेतु अनुभूत मंत्र : अनुभूत मंत्र : ओम गं नम: अनुभूत मंत्र बिधि ‌- भगबान गणेश की मूर्ति या चित्र सामने रखकर 15 दिनों तक नित्य 51 माला “जप” करे । “जप” के पुर्ब भगबान गणेश की पूजा करें । “जप” के बीच मे उठे नहीं । जप श्रधा से और पूर्ण ब्यब्स्थित होकर … Read more

सांसारिक परेशानियों के लिए मंत्र

सांसारिक परेशानियों

सांसारिक परेशानियों के लिए मंत्र : मंत्र : ओम ह्रीं ह्रीं चामुण्डायै नम: ।।   बिधि : उक्त मंत्र का 51 दिनों तक नित्य 1 हज़ार जप करें । अनुष्ठान के समय खाने-पीने की बस्तुओं में से किसी भी एक प्रिय बस्तु को छोडकर भोजन करें । इससे सांसारिक कठिनाइयों से शीघ्र लाभ होता है … Read more

सर्बसौख्य प्रदायक मंत्र

सर्बसौख्य प्रदायक मंत्र :

सर्बसौख्य प्रदायक मंत्र : मंत्र : “ओम क्लीं नम:”   बिधान : सर्बप्रथम दस हजार मंत्र सात दिनों तक जप कर सिद्ध कर लें । फिर 108 मंत्र प्रतिदिन जप करें । साधना शुक्रबार से शुरु करें । इस प्रयोग को करने से धन-धान्य की वृद्धि, सुख, शान्ति तथा सन्मान प्राप्त होता है ।   … Read more

विष्णु मंत्रो से सिद्धि

विष्णु मंत्रो से सिद्धि

विष्णु मंत्रो से सिद्धि : 1. चन्दन , तुलसी की जड, केसर, मुलेठी और बिष्णुप्रिया की जड-घिसकर ह्रूदयमूल, पीछे रीढ में ह्रूदयमूल, आज्ञाचक्र पर लगायें । 2. तामसी बिधि (काकिणी सिद्धि) में कौबे का जिगर, मोर का पंख, कबूतर का जिगर, मदिरा और हलदी पीस-घोटकर उपर्युक्त बिन्दुओं पर लगायें । 3. प्रात:काल ब्रह्म मुहूर्त में … Read more

लक्ष्मीजी के मंत्र की सिद्धियां

लक्ष्मीजी के मंत्र की सिद्धियां :

लक्ष्मीजी के मंत्र की सिद्धियां : 1. लक्ष्मी मंत्र की सिद्धियां अर्धरात्रि के बाद किसी एकान्त गुफा या कख्य में करें । 2. टीका और लेप (आज्ञाचक्र + लक्ष्मी का बिन्दु) रक्तचन्दन, हल्दी, धनिया, चिकनी पीली मिटटी और बरगद की जड का करें । 3. केसर, गोरोचन, हल्दी, सिन्दुर,कमल के पराग का भी टीका लगाया … Read more

भैरब मंत्रों की सिद्धियां

भैरब मंत्रों

भैरब मंत्रों की सिद्धियां : 1. भैरब मंत्रों की साधना अर्धरात्रि में करें या दोपहर को । स्थान निर्जीब हो । बबूल या शमी बृक्ष के पास भी यह साधना की जाति है । 2. मछ्ली की पित्त (पोठा), मदिरा, सिन्दुर ,रक्तचन्दन और भैसे का रक्त मूलाधार + आज्ञाचक्र पर लगायें । 3. काला कम्बल या … Read more

कालीजी के मंत्रो की सिद्धियां

कालीजी के मंत्रो की सिद्धियां :

कालीजी के मंत्रो की सिद्धियां : 1. मुलाधार पर रक्तचन्दन, सिन्दुर, महाबर और भैसे के रक्त का लेप करके इसी का आज्ञाचक्र पर तिलक करें । 2. मदिरा, मछ्ली का तेल, रक्त चन्दन, सिन्दुर, महाबर और भंग की जड/ काले धतुरे की जड/ ओडहुल की जड/ कनेर (लाल) की जड- इनमें से कोई घिसकर, मिलाकर … Read more

दुर्गाजी एब उंनके मंत्रों की सिद्धियां

दुर्गाजी एब उंनके मंत्रों की सिद्धियां :

दुर्गाजी एब उंनके मंत्रों की सिद्धियां : दुर्गाजी का कोई मंत्र सिद्ध करें, तो- 1. सिंन्दुर और बकरी के बच्चे के पुठ्ठे का रक्त आज्ञाचक्र और दुर्गा के चक्र पर लगायें । यहाँ प्रतिदिन रात मे सोते समय बुध की उंग्ली से गोल-गोल घुमायें । 2. सात्विक स्थिति में सिन्दुर, रक्तचन्दन एब हारसिंगार के पुष्प … Read more

जानिए शनिदेव से जुड़े कुछ अचूक उपाय और मंत्र…

शनिदेव

जानिए शनिदेव से जुड़े कुछ अचूक उपाय और मंत्र… शनिदेव बीज मंत्र (एकाक्षरी )- ‘ॐ शं शनैश्चराय नम: ।’ तांत्रिक मंत्र- ‘ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनये नम: । जप संख्या- 23,000 (23 हजार)। (कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का विधान है ।) दान सामग्री- काला वस्त्र, उड़द, काले तिल, अनेक प्रकार … Read more