सौन्द्रर्योतमा अप्सरा साधना :
सौन्द्रर्योतमा अप्सरा साधना कैसे करें?
February 9, 2024
An Aghori
The Attitude of an Aghori
February 9, 2024
अमृता अप्सरा साधना

अमृता अप्सरा साधना :

अमृता अप्सरा : इन्द्रदेब के दरबार की अनेकानेक अप्सराओं में दिब्य सुन्दरी सरल सिद्ध अमृता अप्सरा है । इन अमृता अप्सरा की साधना परम आत्विक है । इनकी साधना ४१ दिन की है ।
शुक्ल पख्य के सोमबार या शुक्रबार को यह अमृता अप्सरा साधना आरम्भ कर सकते हैं । सम्पूर्ण स्नान करके स्वेत बस्त्र धारण करें । साधना कख्य को स्वछ, सुन्दर ब सुगन्धित रखें । शुध घी का दीपक प्रज्वलित करें । पूर्ब की और मुख करके साधना करें । आसन्न पर इत्र छिडक कर सफेद बस्त्र बिछाकर बैठें । सर्बप्रथम गुरुमंत्र की माला जपें । गणेश पूजन करें ।
 
अब काली कौडी लेकर लकडी की चौकी पर स्थापित करें । कुमकुम से चार चिह्न लगाएं, जो कि धर्म, अर्थ, काम ब मोख्य का प्रतीक हैं । गंगाजल छिडक दें । कौडी को अप्सरा का स्वरूप समझकर पूजन करें, पुष्पादि अप्रित करें । इस स्वातिक पूजा के मध्य अमृता का सशरीर अनुभब हो सकता है । नबरंगी माला के ५१ माला इस अप्सरा मंत्र का जाप करें –
ॐ हुं हुं जन तप अमृता हुं हुं।
 
यह पूजा निरन्तर ४१ दिन करें, अधिकांशत: ४१ दिन के पूर्ब ही अप्सरा दर्शन देकर साधक को कृतकृत्य कर देगी ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *