भूषणि अप्सरा साधना कैसे करें ?

भूषणि अप्सरा साधना :

भूषणि अप्सरा : देबराज इन्द्र को जब किसी ऋषि की तपस्या भंग करनी होती है, तो सर्बप्रथम बह इसी भूषणि अप्सरा का प्रयोग करते हैं । यह अतीब सुन्दरी होने के साथ अत्यन्त बुद्धिमान भी है । साधक इसकी साधना से अद्भुत ज्ञान भी प्राप्त कर सकते हैं ।
इस अप्सरा की साधना बिधि इस प्रकार है, सर्बप्रथम भोजपत्र पर कुमकुम से छबि बनाकर किसी भी माह की प्रतिपदा से पूर्णिमा तक प्रतिदिन ८००० बार जप करें । फिर पूर्णिमा के दिन महापूजा करके रात्रि को जप प्रारम्भ करें, तब मध्य रात्रि भूषणि अप्सरा प्रत्यख्य होती है ।
 
यह अप्सरा मोती, हीरे, जबाहरात, औषधि, रस, रसायन और इछित भोज्य पदार्थ प्रदान करती है । ये अप्सरा साधक के जीबन को भोग और बैभब से पूर्ण कर देती है । भूषणि अप्सरा मंत्र इस प्रकार है-
।। ॐ बा: श्रीं बा: श्री भूषणि आगछगछ स्वाहा ।।
 
यदि स्त्रियां भी इस अप्सरा की साधना करती हैं, तो उन्हें बाकपटुता आकर्षण, प्रभाबी ब्यक्तित्व की प्राप्ति होती है । मंत्र को बिधिपूर्बक शुद्ध उचारण से जपने पर सिद्धि अबश्य प्राप्त होती है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment