रत्नमाला अप्सरा
रत्नमाला अप्सरा साधना कैसे करें ?
February 10, 2024
रति अप्सरा साधना :
रति अप्सरा साधना कैसे करें ?
February 10, 2024

मृदुला अप्सरा साधना :

मृदुला अप्सरा सौन्दर्य की देबी है, यह काम भाबना की सिद्धि प्रदान करती है । देह और बाणी से यह अप्सरा अद्वितीय है । काब्य, नृत्य, हास्य बिनोद से यह परिपूर्ण है । इसके दर्शन से ही मन मोहित हो जाता है । इसका शरीर केसर के अबटन से सुन्दरता को प्राप्त है । इसके चरण कमल भी अति सुन्दर है । इस मृदुला अप्सरा की साधना हेतु आबश्यक सामग्री इस प्रकार है-
 
गुलाब जल, गुलाब इत्र, दीपक, घी या चमेली का तेल, श्वेत बस्त्र, केसर, गुलाब के फूल, शंख माला, आसन , सफेद धोती ।
 
गुलाब का फूल चित्र के पास रखें, गुलाब का इत्र चित्र के पास छिडक दें ब स्वयं के शरीर पर भी लगाएं। एक मुलहठी चबा लें । अब एक लोटे में गुलाब जल ब गंगाजल मिलाकर बिनियोग करें –
ॐ अस्य की मृदुला अप्सरा मंत्रस्य,
काम्देब ऋषि पंकित छन्द कामक्रीडेश्वरी,
देबता सम सौन्दर्य बीजं कम कामशक्ति,
अम कीलकं श्री मृदुला अप्सरा सिद्धियर्थरति,
सुखप्रदाय प्रिया रूपेण सिद्धयार्थ मंत्र जपे बिनियोग: ।
 
मृदुला अप्सरा मंत्र: ॐ श्रीं मृदुला बश्य मानाय श्रीं फट्।।
 
यह साधना पुष्य नक्ष्यत्र में आरम्भ करें । रात्रि ११ बजे के पशचात् ही यह साधना आरम्भ करें ।
 
मंत्र जप से पूर्ब साधना स्थल पर स्वेत बस्त्र बिछाकर अप्सरा का चित्र रखें, फिर दीपक जलाकर केसर से पूजन करें । फिर उक्त मंत्र जाप आरम्भ करें । मंत्र जाप करते हुए अप्सरा के भाबों की कल्पना करें । भौतिक संसार का ध्यान छोडकर मात्र अप्सरा को समर्पित होकर ध्यान करें । यह साधना सात दिबस करें, तो मृदुला अप्सरा प्रसन्न होती है।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *