सौन्द्रर्योतमा अप्सरा साधना कैसे करें?

सौन्द्रर्योतमा अप्सरा साधना :

सौन्द्रर्योतमा अप्सरा : बिना सौन्दर्य के जीबन अधुरा है, जिसके जीबन में सौन्द्रर्य होता है, उसी के जीबन में उत्साह होता है । सौन्दर्य मात्र दैहिक न होकर आत्मिक भी होता है । आत्मिक सौन्दर्य से परिपूर्ण ब्यक्ति की आंखे साधना काल में प्रेमपूर्ण अश्रु से छ्लक पडती है । इन दोनों प्रकार के सौन्दर्य से परिपूर्ण है सौन्दर्योतमा अप्सरा । कहा भी गया है –सत्यं शिबं सुन्दरं – अर्थात् सत्य ही शिब है, शिब ही सुन्दर है । ऐसा ही सौन्दर्य, शक्ति और सत्य का समन्वय है सौन्दर्योतमा अप्सरा । इस अप्सरा की साधना ब्यक्ति को सौन्दर्य के साथ साथ शक्ति और सत्य के साख्यात्कार की अनुभूति भी कराती है । इसकी साधना से ब्यक्ति को शक्ति ब सौन्दर्य का अभाब नहीं रहता ।
 
यह साधना अधिकांशत: स्त्रियों द्वारा की जाती है । इस साधना में सौन्दर्योतमा यंत्र, सौन्द्रर्योतमा अप्सरा माला का प्रयोग किया जाता है । यह साधना किसी भी शुभ योग में शुरु की जा सकती है । यंत्र का पूजन केसर, अख्यत ब पुष्प से करें । लाल रंग के बस्त्र पर कुमकुम से “क्रीं” लिखकर यंत्र को स्थापित करें । निम्नलिखित सौन्द्रर्योतमा अप्सरा मंत्र का ५ माला जप करें –
ॐ क्रीं कृष्णाय सौन्दर्याय क्रीं ॐ नम: ।।
 
मंत्र जाप सम्पूर्ण होने पर यंत्र को पुरे शरीर से स्पर्श करा लें । पांच दिबस निरन्तर यह साधना करें । छठे दिबस यंत्र, माला ब सामग्री को नदी में प्रबाहित करें । इस प्रकार छ्ठे दिन से साधना का प्रभाब अनुभब होने लगेगा । अप्सरा प्रत्यख्य होकर भी दर्शन ब बरदान दे सकती है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment