मनोहारी किन्नरी साधना
मनोहारी किन्नरी साधना कैसे करें?
February 7, 2024
शत्रु नाशक मंत्र
शत्रु नाशक मंत्र का विधान
February 7, 2024
स्वर्ण परी साधना

स्वर्ण परी साधना :

स्वर्ण परी साधना अत्यंन्त प्राच्य बिद्या है । यह परी प्रसन्न होने पर साधक को स्वर्ण मुद्रायें प्रदान करती है । सभी प्रकार की भौतिक समृद्धि देने में यह परी समर्थ है । स्वर्ण की आकांख्या रखने बाले सभी साधक इसकी साधना करते हैं । परियों से सम्पर्क साधने के लिये प्राचीन काल में कुछ बिचित्र बिधियां भी थीं, जो अब लुप्त हो गई हैं । यह परी प्रसन्न होने पर साधक को अलौकिक यौबन का आनन्द भी देती है । स्वर्ण परी साधना की बिधि इस प्रकार है-
 
सामग्री : गुलाब पुष्प, चमेली इत्र, आठ गोमती चक्र, आठ सुपारी, लौंग, बताशे, काले तिल, सफेद बस्त्र, सफेद आसन, हकीक की माला।
 
स्वर्ण परी साधना बिधि : इस साधना हेतु ४१ दिन तक निरन्तर मंत्र जाप करना है । साधना कख्य एकान्त में हो, जहाँ किसी अन्य ब्यक्ति का प्रबेश निषिद्ध हो । शुक्ल पख्य के शुक्रबार को उपबास रखे, सूर्यास्त के पश्चात् मात्र खीर ग्रहण करे । रात्रि में स्नान करके साधना शुरू करें । कख्य में गुलाब की पंखुडियां बिखेर दें । स्वयं की देह पर चमेली का इत्र लगा लें । लकडी की चौकी पर किसी अत्यंन्त सुन्दर स्त्री का चित्र रख लें । इसके चारों और गोमती चक्र रख दें । आठों सुपारी ब अन्य सामग्री भी चित्र के समख्य चढायें । आसन पर उत्तर दिशा की और मुख करके बैठें । हकीक की माला से प्रत्येक रात्रि १०१ माला मंत्र जाप करें । जप के पश्चात् बहीं भूमि पर सो जायें । प्रतिदिन सायंकाल में खीर अबश्य खायें ।
 
स्वर्ण परी साधना मंत्र : अर्हीना अरीना सरीना सफरीना अकबिफा सदा सदुनी कामिनी पदभाबी ब्श्यं कुरू कुरू नम: ।।
 
उपरोक्त स्वर्ण परी साधना मंत्र का जाप शुरू करने से पूर्ब सुरख्या घेरा अबश्य बना लें । पूरे ४१ दिन तक ब्रह्मचारी रहकर उपरोक्त मंत्र का बिधि पूर्बक जाप करें । स्वर्ण परी साधक को प्रत्यख्य होकर स्वर्ण मुद्रा प्रदान करती है, तभी उससे मनचाहा बचन प्रप्त कर लें ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *