स्वर्ण रेखा यक्षिणी साधना कैसे करें ?

स्वर्ण रेखा यक्षिणी साधना कैसे करें ?

स्वर्ण रेखा यक्षिणी” का साधना मंत्र यह है –
“ॐ चर्क चर्क शाल्मल स्वर्णरेखे स्वाहा ।”

साधन बिधि – एक लिंग शिब का षडंग बिधि से पूजन करके कृष्णपक्ष की प्रतिपदा पूर्ब संख्या से उक्त मंत्र का जप आरम्भ करना चाहिए । एक मास तक नित्य 8000 की संख्या में मंत्र का जप करना चाहिए । मास के अन्त में पूजन कर रक्ताबर्ण देबता का एकलिंग में ध्यान करते हुए रात के समय पुन: मूल मंत्र का जप करना चाहिए ।

उक्त बिधि से जप करते रहने पर 6 महीने में सिद्धि प्राप्त होती है ; तब “स्वर्ण रेखा” यक्षिणी प्रसन्न होकर, अर्द्धरात्रि के समय साधक को दिव्य –अंजन, बस्त्र तथा अलंकार भेंट करती है ।

Our Facebook Page Link

दूसरों तथा स्वयं की सुख -शान्ति चाहने बालों के लिए ही यह दिया गया है । इसमें दिए गये यंत्र, मंत्र तथा तांत्रिक साधनों को पूर्ण श्रद्धा तथा बिश्वास के साथ प्रयोग करके आप अपार धन -सम्पति, पुत्र -पौत्रादि, स्वास्थ्य -सुख तथा नाना प्रकार के लाभ प्राप्त करके अपने जीबन को सुखी और मंगलमय बना सकते हैं ।
तंत्राचार्य प्रदीप कुमार – 9438741641/ 9937207157 (Call /Whatsapp)

Leave a Comment