गुप्त बिद्या प्राप्ति हेतु साधनाएं

गुप्त बिद्या प्राप्ति हेतु :

गुप्त बिद्या प्राप्ति हेतु साधना : गुप्त बिद्या : केबल बृहस्पतिबार के दिन मरे हुए उल्लू की आँखे निकल कर कहीं सुरक्षित रख लें तथा उसके शेष भाग को आधी रात के समय किसी चौराहे पर गाढ़ दें । इसके बाद जब भी शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के दिन गुरुबार पड़े, उस दिन उल्लू की … Read more

कामाख्या देवी सिद्धि विधान क्या है?

कामाख्या तंत्र : कामाख्या देवी सिद्धि विधान

कामाख्या देवी सिद्धि विधान क्या है? आसन शुद्धि – कामाख्या में कामाख्या देवी जी पूजन वहाँ के पुजारी जैसे कराएँ वैसे करना चाहिए अथवा कामाख्या देवी पूजन विधि के अनुसार करना चाहिए । मन्दिर में सब देवों का पूजन कर लाल वस्त्र पर देवीजी का पूजन करें और घर में, गणेश – गौरि, कलश, नवग्रह … Read more

दारिद्रनाशक धूमावती मंत्र साधना कैसे करें ?

दारिद्रनाशक धूमावती मंत्र साधना कैसे करें ?

दारिद्रनाशक धूमावती मंत्र साधना कैसे करें ? धूमावती मंत्र साधना : जीवन में कई बार ऐसे पल आ जाते है की हम निराश हो जाते है, अपनी गरीबी से अपनी तकलीफों से और इस बात को नहीं नाकारा जा सकता की हर इन्सान को धन की आवश्यकता होती है ।  जीवन के ९९ % काम … Read more

शत्रु-मोहन कामाक्षा मंत्र

शत्रु-मोहन कामाक्षा मंत्र

शत्रु-मोहन कामाक्षा मंत्र : कामाक्षा मंत्र : “चन्द्र-शत्रु राहू पर, विष्णु का चले चक्र।भागे भयभीत शत्रु, देखे जब चन्द्र वक्र।दोहाई कामाक्षा देवी की, फूँक-फूँक मोहन-मन्त्र।मोह-मोह-शत्रु मोह, सत्य तन्त्र-मन्त्र-यन्त्र।।तुझे शंकर की आन, सत-गुरु का कहना मान। ॐ नमः कामाक्षाय अं कं चं टं तं पं यं शं ह्रीं क्रीं श्रीं फट् स्वाहा ।।” कामाक्षा मंत्र विधिः- … Read more

तंत्र मंत्र यंत्र एबं देबसिद्धि रख्यात्मक साधना :

तंत्र मंत्र यंत्र

तंत्र मंत्र यंत्र एबं देबसिद्धि रख्यात्मक साधना : तंत्र मंत्र यंत्र के लीए सर्बप्रथम अपनी सुरख्या के लिये प्रत्येक साधक-उपासक के लिए अपनी देह, शरीर, तन,मन को बाहरी आक्रमणों ब समस्त दोषों एबं पर प्रयोगों से बचाब (सुरखित) रखने के लिये रख्यात्मक सिद्धि-साधना करनी अति आबश्यक है ! जब तक आप स्वयं सुरखित नहीं होंगे … Read more

अघोर शमशान यक्षिणी सिद्धि साधना क्या है?

शमशान यक्षिणी

अघोर शमशान यक्षिणी सिद्धि साधना क्या है? शमशान यक्षिणी मंत्र : ओम हं हों कुं: शमशाणे बासिनी शमशाने स्वाहा। ।। शमशान यक्षिणी साधना बिधि ।। इस श्मशान यक्षिणी की साधना में स्थित किसी श्मशान में बैठ कर करें । स्मय 11 बजे उपरान्त साधक अपना मुख पूर्ब या दखिण की और रखें । साधक नग्न … Read more

सिद्ध प्राचीन अघोर तंत्र सिद्धि

अघोर तंत्र सिद्धि

।। सिद्ध प्राचीन अघोर तंत्र सिद्धि ।। ।। अघोर तंत्र सिद्धि मंत्र ।। ॐ नमो भगबत्यै श्मशान बासिन्यै। भूतनाथाय रुद्ररुपाय बीर बाबन अधिपते। जोगी जति ध्याबे। महा घोर रुद्रो अघोरा मम साधय साधय हूँ फट्। ।। अघोर तंत्र सिद्धि बिशेष ।। यह साधना को गंगा किनारे स्थित श्मशान घाट पर की जाती है । यह … Read more

सिद्ध रिक्त्या भैरव की अघोर तंत्र साधना क्या है?

सिद्ध रिकत्या भैरब की अघोर तंत्र साधना

सिद्ध रिकत्या भैरब की अघोर तंत्र साधना : ॐ रि रिकत्या भैरब संहार कर्मकर्ता महासंहार पुत्र, “अमुक” गृहण गृहण, भख भख हूँ फट स्वाहा।। ।। रिकत्या भैरब अघोर तंत्र साधना बिधि ।। इस मंत्र की साधना करने से पूर्ब किसी योग्य ब्यक्ति से दीख्या प्राप्त कर लें । इसके उपरांत ही यह प्रयोग करें । … Read more

अघोर स्तम्भन तंत्र साधना कैसे करें ?

अघोर स्तम्भन तंत्र बिधि

अघोर स्तम्भन तंत्र साधना : ।। अघोर स्तम्भन तंत्र ।। “ॐ नमो भगबते श्मशानरुद्राय सर्ब जगद् ब्यापकाय ह्रौं सर्ब दुष्टानां श्रोग गात्रनेप्रयति बाक्यानि, सखेइन्द्रयाणि स्तम्भय स्तम्भय हाँ श्मशान रुद्राय खिप्रसंत्राय एहि एहि जिह्बां स्तम्भय स्तम्भय ह्रीं ह्रीं स्वाहा ।” ।।अघोर स्तम्भन तंत्र बिधि।। उपरोक्त मंत्र श्री जगतगुरु आदिनाथ कथित है । इसे प्राचीन स्वयं सिद्ध … Read more