काली कुल्लुकादि मंत्र
।।सिद्धि प्राप्ति हेतु काली कुल्लुकादि मंत्र।।
January 31, 2024
नीलपताका
नीलपताका देवी मंत्र प्रयोग :
January 31, 2024
कालरात्रि बशीकरण

कालरात्रि बशीकरण प्रयोग :

कालरात्रि बशीकरण : शनिबार के दिन सायं सरोबर पर जाकर सरोबर एबं जलो का (जौंक) का पूजन करे ।
 
कालरात्रि बशीकरण मंत्र : ॐ नमो जलौकायै जलौकायै सर्बजनं बशं कुरू कुरू हुं फट् स्वाहा ।
 
रात्रि में देबी स्मरण करते हुये सो जाबे । पुन प्रात: काल सरोबर से जलौ का (जौंक) लाकर छाया में सुखाकर उसका चूर्ण बनाबे । काले कपास की रूई में चूर्ण मिलाकर बतीबनाबें , कुम्हार से मिट्टी लाकर दीप बनाये, चलते हुये कोल्हू का सुद्ध तेल लाबे, बैश्या के घर से अग्रि लाकर कुचिला की लकडी जलाकर उससे दीप प्रज्ज्वलित करे । हल्दी से त्रिकोण षट्कोण एबं भूपूरयुक्त यंत्र बनाकर उस पर दीप रखें । उस दीपक पर कालरात्रि का आबाहन कर आबरण पूजा करे । उस दीपक पर नबीन खप्पर रखकर कज्जल बनाये । उस कज्जल को लेकर पश्चिमाभिमुख बैठकर तीन सौ बार बख्यमाण मंत्र द्वारा अभिमंत्रित करें ।
 
।। अंज्जन अभिमंत्रण मंत्र ।।
मंत्र : ॐ ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं ग्लौं ब्लूं ह्सौं: नम: काहेक्षयरि सर्बान्मोहय मोहय कृष्णे कृष्णबर्णे कृष्णाम्बरसमन्विते सर्बानाकर्षय आकर्षय शीघ्र बशं कुरू कुरू ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ।
 
पश्चात् दीप, देबता ब अपनी आत्मा का सामंजस करे । मंगलबार को पुन: देबी ब अंजनका पूजन कर अंजन को मकखन में मिश्रित करे । पश्चात् मूल मंत्र से १०८ आहुति महुआ के पुष्पों से देबे । कुमारी बटुक ब सुबासिनियों को भोजन कराये । उपरोक्त सिद्धअंज्जन का तिलक लगाने से राजा प्रजा सभी का संमोहन होबे । दुध में मिलाकर पिलाने से पीने बाला ब्यक्ति बशीभूत होबे । दूध में रंगभेद की आशंका रहने से पान में भी खिलाया जा सकता है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *