अनुम्लोचा अप्सरा साधना :
अनुम्लोचा अप्सरा साधना कैसे करें ?
February 8, 2024
भूषणि अप्सरा साधना :
भूषणि अप्सरा साधना कैसे करें ?
February 8, 2024

कुण्डला हारिणी अप्सरा साधना :

कुण्डला हारिणी : देबलोक की इस अप्सरा के रुप लाबण्य पर देब भी मोहित हुए रहते हैं । यह अप्सरा अपने नृत्य और गायन हेतु अति प्रसिद्ध है । कुण्डल हारिणी की साधना में सिद्धि को प्राप्त करने बाला साधक सदैब आकर्षक, शक्तिसम्पन्न और स्वस्थ चित का स्वामी बन जाता है । इसकी सरल साधना पांचपांच दिबस की है । पूजन प्रयोग ब सामग्री अन्य साधनाओं के समान ही है । कुण्डला हारिणी अप्सरा मंत्र इस प्रकार है-
ॐ श्रीं ह्रीं कुण्डला हारिणी आगछगछ स्वाहा।।
 
यह मंत्र शुक्ल पख्य के किसी भी गुरुबार की रात्रि १० बजे के पश्चात् शुध स्वर में ११ माला जपें । पांचबे दिन २१ माला जपें। सम्पति या रासायनिक पदार्थों की सिद्धि हेतु यह साधना किसी एकांत पर्बत शिखर पर करें । अप्सरा प्रसन्न होकर साधक की सभी मनोकामनाओं को पूर्ण करती है ।

हर मस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *