कालरात्रि
कालरात्रि उच्चाटन प्रयोग कैसे करें ?
January 30, 2024
एलर्जी
एलर्जी के कारण और उपचार
January 30, 2024
जलन

जलन :

जलन (Burn): किसी भी कारण त्वचा में जलन हो तो ब्यक्ति को बेचैनी का अनुभब होता है । जलन किसी भी प्रकार की हो सकती है, आग से भी और बर्फ से भी । यदि अम्ल या तीब्र रसायन पदार्थ भी किसी अंग पर गिर जाये तब भी Burn होती है । यदि Burn ज्यादा हो तो छाले भी हो जाते हैं । हल्की Burn केबल बाह्य त्वचा प्रभाबित करती है, किंतु जलन यदि अधिक है या गम्भीर प्रकार की हो तो चिकित्सक से उपचार कराना आबश्यक है ।
 
ज्योतिषिय सिद्धांत :
अग्नि तथा आग्नेय दुर्घटनाओं का कारक मंगल है । शनि और राहु जब एक साथ या अकेले ही पहले, दुसरे, चौथे, सातबें या आठबें भाब में स्थित हों तब ऐसी दुर्घटनायें अधिक होती हैं । जब मंगल और राहु तीसरे, पांचबे या नबें भाब में हो तो ब्यक्ति के साथ अचानक आग्नेय दुर्घटनाये होने का भय रहता है ।
 
निदान : Burn के उपचार के समय शरीर पर लाल कपडा अबश्य धारण करें तथा साथ ही ९ रती का लाल मूंगा तथा मूनस्टोन या सफेद मोती ३ रती का धारण करने से लाभ होता है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *