गुरुवार
गुरुवार को पीले कपड़े क्यों पहनते हैं?
March 9, 2024
दत्तात्रेय वशीकरण प्रयोग :
दत्तात्रेय वशीकरण प्रयोग :
March 9, 2024
घर में दूध उबलने पर परिवार पर क्या असर होता है ?

दूध उबलना शुभ या अशुभ ?

दूध अमृत है इसे कभी गिरने जा जलने ना दिया जाये इसका विशेष ख्याल रखे ।
दूध गिरना अशुभ माना जाता है पर कही दूध उबल कर जलने लगे तो और भी अशुभ माना जाता है अशुभता क्या बताती है । हम आपको आगे बतातये है ।
दूध एक परशाद है दूध का भगवन को किसी वि अवस्था में बोग लगया जा सकता है दूध को कभी भी जूठा नहीं मन जाता दूध हर समय शुद होता है , इसका गिरना और जलन बहुत ही अशुभ माना जाता है ।
दुध ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा का प्रतीक है ,दुध जलने से गिरने से चंद्रमा कमजोर हो जाता है और परिवार में चंद्रमा कमजोर हो जाता है , और नीच का फल देने लग जाते है । जब चंद्रमा नीच फल देने लगते है तो नींद खराब होने लगती है ,पेट खराब होने लग जाता है आर्थिक तंगी होने लग जाती ,पैसो का आभाव भी होने लग जाता है ।
दूध अगर गिरता है/ जलता है तो क्या संकेत देता है :
दुध अगर हमारे घर में गिरता है जलता है तो इसका क्या अर्थ होता है । इसका आप सब को ज्ञान होना बहुत ही जरुरी है । और इसका उपाय भी होता है । इसका उपाय करने से आप इसकी अशुभता से बच सकते है । जब भी आपके घर में बार बार दुध गिरे और जलने लगे तो समझना चाहिए के आपके परिवार में किसी का चंद्र ग्रह नीच के हो रहे है और जिस व्यक्ति का ग्रह नीच हो रहा हो उसका कोई नुक्सान हो सकता है ।
नुकसान क्या होगा व्यपार में अड़चने आ सकती व्यक्ति का मनन परेशान रह सकता अकारण ही चिंताए लगी रह सकती है । पेट में भी प्रॉब्लम हो सकती ,गेस हो सकती है , चोट गलने की संभाबना भी बन सकती है । रात के समय चिंताए बेकर की सोच से परेशानी ,कर्ज भी लेना पड़ सकता है । जे सब चन्दर नीच की और इशारा करते है ।
उपाय :
जब कभी ऐसे प्रॉब्लम आय तो आपको सबसे पहले सोमवार के दिन शिव मंदिर में जा कर दुध का दान करना चाहिए , नहीं तो कर्ज बढ़ सकता है, घर में लड़ाई झगडे का माहौल बन सकता है सूर्ये निकलने के बाद किसी भी समय आप मंदिर में दान कर सकते है , ऐसा करने से आपके नीच हो रहे चंद्र को बल मिलेगा और वो अच्छा फल देने लगेंगे ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *