जानिए की शादी तय होकर भी क्यों टूट जाती है :
जानिए की शादी तय होकर भी क्यों टूट जाती है
April 23, 2024
पति-पत्नी के झगड़े को दूर करने के ज्योतिषीय उपाय :
पति-पत्नी के झगड़े को दूर करने के ज्योतिषीय उपाय :
April 23, 2024
अगर आप पति से तलाक चाहते हैं या आप ने मुकदमा दायर कर रखा है, लेकिन वह अदालत में फंसा हुआ है तो-
1) अपने अधिवक्ता को कलम उपहार में दे अदालत में इससे आपकी विजय होगी
2) यदि आप पति से तलाक की चाहत रखते हैं तो गहरे रगं के वस्त्र धारण करके कचहरी जाए
3) पति से तलाक का निपटारा फटाफट कराने के लिए हकीक पत्थर लेकर किसी मंदिर में चढ़ा दें यह कार्य 11 दिनों तक रोज करें भगवान से प्रार्थना करें विजय निश्चित है
4) कचहरी में चलने वाले तलाक के मुकदमे में जल्द सफलता मिलने के लिए जब भी मुकदमा से घर वापस आए तो गुलाब का फूल किसी मजार में अर्पित करे अवश्य लाभ प्राप्त होगा पर सावधान , आपको मजार से कहीं ओर न जाकर अपने घर ही जाना होगा पुष्प अर्पित करने के बाद
5) अगर आप अपना केस जल्दी समाप्त करना चाहते हैं तो यह उपाय करें । पाँच गोमती चक्र अपने साथ लेकर कोर्ट जाएँ और वहाँ उन्हें अपने पाँव के नीचे रख लें । आप मनचाहा फैसला बिना किसी रुकावट के पा सकते हैं ।
6) लाल कलावा और लॉन्ग और सिंदूर को दूध में डुबो कर किसी भी बरगद के पेड़ के निचे रख दे और कलावे को उस पेड़ के चारो तरफ बाँध दे इससे आपको पति से तलाक लेने में आसानी होगी क्योकि सारी अड़चने वो बरगद का पेड़ ले लेगा
7 ) हमेशा अपने कमरे के दरवाजे पर कपूर और चावल के दाने रख लें ये आपको दुबारा धोखा खाने से बचाएगा और साथ ही साथ आपको तलाक पाने में मदद करेगा
8) शनिवार के दिन चार बत्ती वाला दीया सरसों के तेल का किसी सुनसान जगह पर जलाना है और अपनी प्रार्थना कर लेनी है । ये उपाय प्रत्येक शनिवार के दिन आपको करना है ।
9) अमावस्या के दिन गोशाला में पानी का दान करवाना है ।
10) प्रत्येक शनिवार के दिन सरसों के तेल का दीया अपने घर के दरवाज़े के बहार जलाय । हर बार आपको नया दीया काम में लेना है और पुराना दीया पीपल के पेड़ में डाल देना है ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार (मो.) 9438741641/ 9937207157  {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *