देवी श्री कामाख्या चालीसा
देवी श्री कामाख्या चालीसा
May 1, 2024
ओघड्नाथ बशीकरण तंत्र :
ओघडनाथ बशीकरण तंत्र
May 2, 2024

बन्ध्या स्त्री केलिए कृष्ण मंत्र :

ओम गुरुदेबाय नम: ।
ओम श्री कृष्णाये नम: ।
ओम श्री विष्णुयाये नम: ।
ओम श्री सूर्याय नम: ।
ओम श्री देबेन्द्राय नम: ।
ओम महादेबाय नम: ।
माही का कोठा, कोठे में नारी ।
नारी में नाडी, नाडी में प्राण ।
आंखों में चितबन, ओठों पै तान ।
नाडी में रास रचाबे किसन भगबान ।
सांस दे, शक्ति दे, प्रेम का बरदान दे ।
राख बीच बिष्णुरूप पुत्ररत्न दान दे ।
आ जा अब तन बीच, मन और प्राण बीच ।
हृदय बीच, गर्भ बीच, नाभि के प्राण बीच ।
मूल बीच आ के तू सिर में समाना ।
हृदय बीच आ के तू नाभी में आ जा ।
ओम नम: देब तुझे भक्ति की आन ।
गुरु की शक्ति और मन की शक्ति की आन ।
ओम लिं लिं लिं यं फट् स्वाहा ।
 
इस मंत्र की सिद्धि सबा लाख मंत्र जपने से होती है । यह श्रीकृष्ण का मंत्र है । बिष्णु कृपा से ही पुरुस में शुक्राणु एब स्त्री में डिम्ब का निर्माण होता है । बैज्ञानिक शव्दों में कहें, तो नाभिकीय कण सदा नाभिक से निकलता है । यदि नाभिक या अपने अन्दर के बिष्णु सश्क्त नहिं हुए , तो डिम्ब या शुक्राणु का बीज ही नहीं निकलेगा ।
 
स्त्रियों के लिए श्रीकृष्ण की पूजा- आरधना इसलिए उचित है कि राम में मर्यादा है, बिष्णु में श्रद्धा (आदरभाब) –ये दोनों भाब रतिक्रीडा में बाधक होते हैं । अत: श्रीकृष्ण का प्रेमी या मीत भाब ही उचित है । बाममार्ग में काली का आव्हान किया जाता है, जिसकी प्रचण्ड श्कति बिष्णु, अर्थात् ह्रदय केन्द्र को जबरदस्ति सश्क्त बनने पर बिबश कर देती है ।
 
इस मंत्र को 108 बार प्रतिदिन 21 दिन तक रात्रि में 9 से 12 (यह देख लेना चाहिए की यह क्रिया ऋतू के बाद की जाती है) तक की जाती है । इस 21 दिन तक बन्ध्या स्त्री को पूर्ण स्वच्छ, प्रसन्न और कृष्ण भाब में डूबना चाहिए । मंत्र पाठ के साथ गाय और बकरी का घी स्त्री के चांद पर डालते रहना चाहिए । कान और नाक में भी डालें (एक बार) ।
 
इस तंत्र क्रिया में बन्ध्या स्त्री को प्रतिदिन अपने हाथों से खीर बनाकर पहले श्रीकृष्ण, फिर गुरु, फिर पति को खिलाने चाहिए और इसके बाद स्वय भी खानी चाहिए । तंत्र क्रिया के बीच स्त्री को पति से अलग सोना चाहिए और घी, भात खाना चाहिए। दुध, हरी सब्जी अनुमेय है ।
 
यदि बन्ध्या स्त्री के बन्ध्यापन डिम्ब न बनने के कारण है या अंगदोष के अतिरिक्त कोइ कारण है, तो 100 प्रतिशत गारन्टी है कि बह सन्तानबती होगी ।
To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :
ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार (मो.) 9438741641 /9937207157 {Call / Whatsapp}
जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *