पद्मिनी नागिनी सधना :
पद्मिनी नागिनी साधना विधि
January 21, 2024
धनेश यक्ष साधना
धनेश यक्ष साधना क्या है ?
January 21, 2024
बीरभद्र साधना

बीरभद्र साधना :

बीरभद्र साधना मंत्र : ॐ नमो यक्षाय बीरभद्राय स्वाहा।।

परिचय : भगबान शंकर के गण बीरभद्र का सहायक यह यक्ष अत्यन्त बलबान, तेजबान, युद्ध बिशारद और पराक्रमी है । यह प्रसन्न तो कठिनाई से होता है किन्तु प्रसन्न हो जाने पर साधक के समस्त शत्रुओं अतिशीघ्र नष्ट कर देता है । इसकी साधना बीरभाब में करनी पडती है ।

बिधान : इस यक्ष की कृपा हेतु निर्जन शिबालय में ३ माह तक पूर्णमासी से पूर्णमासी तक निरन्तर साधना करनी पडती है । दिन में सारा अनुष्ठान संकल्प पूजन करे फिर रात्रि में बीरभद्र की पूजा करके ५००० जप करे तो प्रति पूर्णमासी साधना की प्रगति का ज्ञान साधक को होता रहता है । अन्तिम पूर्णमासी को अद्रृश्य रहकर बीरभद्र बर देकर चला जाता है, स्वयं सहायता करता रहता है ।

बीरभद्र साधना फल : इसकी कृपा से साधक को सब और से जय मिलती है और साधक को राज्यलाभ भी होता है । किंतु इसकी पूजा प्रतिदिन जीबनभर करनी पडती है । साथ ही एक माला जप करना पडता है । अनुष्ठान के पूर्ण होने के बाद पूजा प्रात:काल करनी पडती है ।

Facebook Page

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641{Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *