महालक्ष्मी यक्षिणी साधना कैसे करें ?

महालक्ष्मी यक्षिणी साधना कैसे करें ?

महालक्ष्मी यक्षिणीयां यक्षलोक की बासिनी और भोग ऐश्वर्य से सम्बन्ध रखने बाली देबियां हैं । ये लोग जलों और धनों की रक्षा करते हैं ।

इनके राजा धनाधिपति भगबान कुबेर हैं जो अपनी अमराबती के समान समृद्ध राजधानी अलकापुरी में निबास करते हैं । बहाँ करोडों यक्षो का निबास माना गया है ।

महालक्ष्मी मंत्र : ह्रीं क्रीं महालक्ष्मीयै नम: ।।

अनुष्ठान : ये यक्षिणी की साधना प्राय: आषाढ पूर्णिमा से आरम्भ होती है । पूजा अनुष्ठान में स्फटिक माला प्रयुक्त होगी ।

यक्षिणी की साधना से पूर्ब गणेश, गौरी, नबग्रह, गुरूदेब, महामृत्युंजय और यक्षराज का सामान्य पूजन नित्य करना होता है । ११ कन्याएं नित्य खिलानी होती हैं ।

यक्षिणी साधना से पूर्ब उक्त पूजन संकल्पपूर्बक करने के बाद ५००० जप महामृत्युजंय का करना आबश्यक होता है ।

इसके अतिरिक्त मां, बहन ,पत्नी, पुत्री के रूप में ही ये पूजी जाती हैं किन्तु इस पूजा से उन रिश्तेदारों को कष्ट भी कभी कभी होता है ।

बटबृक्ष के नीचे पहले बतलाये गये सारे बिधान को पूरा करके महालक्ष्मी यक्षिणी की प्रसन्नतार्थ ८,००० जप नित्य इस मंत्र का करे ।

फल : एक माह पश्चात् साधक को अनायास धन प्राप्ति होने लगती है तथा भूमिगत धन भी प्राप्त होता है । धन का धर्म में उपयोग करे अन्यथा कष्ट होता है ।

Facebook Page

नोट : यदि आप की कोई समस्या है,आप समाधान चाहते हैं तो आप आचार्य प्रदीप कुमार से शीघ्र ही फोन नं : 9438741641/9937207157 {Call / Whatsapp} पर सम्पर्क करें ।

Leave a Comment