यक्षिणी बशीकरण कैसे करें ?

यक्षिणी बशीकरण कैसे करें ?

यक्षिणी बशीकरण बिद्या की सहायता से ३६ तरह की यक्षिणीयों को बश में किया जा सकता हैं ।
 
मंत्र : “ क्रीं हूँ स्त्रीं ह्रीं (यक्षिणी नाम) क्रीं हूँ स्त्रीं ह्रीं ”
 
इस मंत्र से जप करें, साथ में नीलपताका का पूजन करें तो यक्षिणी सिद्ध होबे ।
इस तरह ८४ तरह के यक्षों को भी बशीभूत किया जा सकता है ।
 
मंत्र : हूँ क्रीं हूँ प्रीं (यक्षनाम) हूँ क्रीं हूँ प्रीं।
 
इस मंत्र का जप करें साथ में नीलपताका का पूजन करें ।
बीज मंत्रों को आखिर में बिलोम भी लगा सकते हैं ।
 
यथा : क्रीं हूँ स्त्रीं ह्रीं (यक्षिणीं) ह्रीं स्त्रीं हूँ क्रीं।
नीलपताका मंत्र प्रयोग से खड्ग सिद्धि, अंजनसिद्धि, रसायनसिद्धि तथा इंद्रजाल की कई सिद्धियों को प्राप्त किया जा सकता है ।

हर समस्या का स्थायी और 100% समाधान के लिए संपर्क करे :मो. 9438741641/ 9937207157 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Comment