कुंडली से देखें कहीं अपने साथी दुश्चरित्र तो नहीं ?
कुंडली में कौन से ग्रह दुश्चरित्र का संकेत देते हैं ?
March 4, 2024
बजरंग बाण का पाठ कैसे करें ?
बजरंग बाण का पाठ कैसे करें ?
March 4, 2024
राजयोग

कुंडली में सूर्य से बनी राजयोग और उसका फल :

राजयोग : सूर्य को ज्योतिष में व्यक्ति की आत्मा माना जाता है । इसका खराब होना सारे जीवन को अस्त-व्यस्त कर देता है । पिता, राज्य, राजकीय सेवा, मान सम्मान, वैभव से इसका सम्बन्ध होता है. शरीर में पाचन तंत्र, आंखें और हड्डियां सूर्य से ही सम्बंधित होती हैं ।
सूर्य के मजबूत होने पर जीवन में वैभव और समृद्धि मिलती है । कमजोर होने पर दरिद्रता और खराब स्वास्थ्य का सामना करना पड़ता है । सूर्य से मुख्य रूप से तीन प्रकार के राजयोग बनते हैं जो व्यक्ति को अपार प्रतिष्ठा देते हैं ।
सूर्य का पहला राजयोग वेशि :
कुंडली में सूर्य के अगले घर में किसी ग्रह के स्थित होने से वेशि योग बनता है । परन्तु ये ग्रह चन्द्रमा, राहु या केतु नहीं होने चाहिए । इसके अलावा सूर्य भी कमजोर न हो और पाप ग्रहों से युक्त न हो । तभी जाकर वेशि योग का लाभ मिलता है ।
वेशि योग का प्रभाव और सावधानी :
इस योग के होने पर व्यक्ति अच्छा वक्ता और धनवान होता है । ऐसे लोगों का शुरुआती समय काफी कठिनाई में बीतता है । परन्तु आगे चलकर ये लोग खूब धन संपत्ति और यश अर्जित करते हैं । ऐसे लोगों को अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए । तथा गुड़ जरूर खाना चाहिए ।
सूर्य का दूसरा राजयोग- वाशि
सूर्य के पिछले घर में किसी ग्रह के होने पर वाशि योग बन जाता है । परन्तु ये ग्रह चन्द्र, राहु या केतु नहीं होने चाहिए । सूर्य को भी पापक्रान्त नहीं होना चाहिए । तभी जाकर यह योग शुभ फल दे पायेगा । सूर्य ग्रह को मजबूत करना है तो करें ये उपाय ..
वाशि योग का प्रभाव और सावधानी :
यह योग व्यक्ति को बुद्धिमान, ज्ञानी और धनवान बनाता है । इसके कारण व्यक्ति बहुत शान-ओ-शौकत से रहता है । इस योग के कारण व्यक्ति बहुत सारी विदेश यात्राएं करता है । इस योग के कारण व्यक्ति घर से दूर जाकर खूब सफलता पाता है । इस योग के होने पर सूर्य को जल जरूर चढ़ाएं । साथ ही सोने के लिए लकड़ी के पलंग का प्रयोग करें ।
सूर्य का तीसरा राजयोग- उभयचारी योग
सूर्य के पहले और पिछले, दोनों भाव में ग्रह हों तो उभयचारी योग बनता है । परन्तु ये ग्रह चन्द्र, राहु या केतु नहीं होने चाहिए । इसके अलावा सूर्य के साथ कोई पाप ग्रह न हो । और न ही सूर्य पर किसी पाप ग्रह की दृष्टि हो । तब यह शुभ योग फलीभूत होता है ।
उभयचारी योग का प्रभाव और सावधानी :
इस योग के होने पर व्यक्ति बहुत छोटी जगह से बहुत ऊंचाई तक पंहुचता है । इसके कारण व्यक्ति अपने क्षेत्र में बहुत प्रसिद्धि प्राप्त करता है । इस योग के कारण व्यक्ति हर समस्या से बाहर निकल जाता है । इसके कारण व्यक्ति को राजनीति और प्रशासन में बड़े पद मिल जाते हैं । इस योग के होने पर रविवार का उपवास जरूर रखें । साथ ही एक लाल रंग का रुमाल भी अपने पास रखें ।

To know more about Tantra & Astrological services, please feel free to Contact Us :

ज्योतिषाचार्य प्रदीप कुमार – 9438741641 (Call/ Whatsapp)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *