नीचभंग राजयोग :
नीचभंग राजयोग क्या है ?
April 3, 2024
हृदय रोग के ज्योतिषीय कारण और उपचार :
हृदय रोग के ज्योतिषीय कारण और उपचार :
April 3, 2024
लक्ष्मी शाबर मंत्र
(A) .“ॐ विष्णु-प्रिया लक्ष्मी, शिव-प्रिया सती से प्रकट हुई। कामाक्षा भगवती आदि-शक्ति, युगल मूर्ति अपार, दोनों की प्रीति अमर, जाने संसार। दुहाई कामाक्षा की। आय बढ़ा व्यय घटा। दया कर माई । ॐ नमः विष्णु-प्रियाय। ॐ नमः शिव-प्रियाय। ॐ नमः कामाक्षाय। ह्रीं ह्रीं श्रीं श्रीं फट् स्वाहा।”
लक्ष्मी शाबर मंत्र विधिः- धूप-दीप-नैवेद्य से पूजा कर सवा लाख लक्ष्मी शाबर मंत्र का जप करें । लक्ष्मी आगमन एवं चमत्कार प्रत्यक्ष यह लक्ष्मी शाबर मंत्र में दिखाई देगा । रुके कार्य होंगे । लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी ।
(B) .“ॐ त्रैलोक्य पूजिते देवी कमले विष्णुवल्लभे
यथा त्वमचलाकृष्णे तथा भव मयि स्थिरा
इश्वरी कमला लक्ष्मिश्चला भर्तुहरिप्रिया
पद्मा पद्मालय संपदुचै श्री पद्मधारिणी
द्वादशैतानी नामानी लक्ष्मीं सपुज्य य: पठेत
स्थिरा लक्ष्मी :भवेतस्व पुत्र दरादिभि : सह।”
(C) “ॐ र्र्हीं दूँ दुर्गे स्मृता हरसी
भितिमशेष जन्तो :स्वस्थै स्मृता
मतिमतीव शुभां ददासि
यदंती यच्च दूरके भयं विदन्ति
मामिह पवमानवितम् जही
दारिद्र्य दुख:भयहरिणी का
त्वदन्या सर्वोपकारकरणाय
सद्रार्द चित्ता स्वाहा।”
विधि- क़र्ज़ मुक्ति आर्थिक स्थिति सुधरने के लिए चंचल लक्ष्मी स्थिर करने के लिए इस लक्ष्मी शाबर मंत्र पाठ को नित्य की जिये सुबह शाम की जिये घी का दीपक जलाके देवी का पाठ करे ।
(D).अन्य मंत्र :
“ॐ ऐं लक्ष्मीं श्रीं कमलधारिणी कलहंसी स्वाहा ।”
मनो मन की इच्छा धर के छःमहीने तक जाप करते रहे , अप्रतिम परिवर्तन नज़र आयेगा पैसे की बरसात होने के योग बनेंगे ।

सम्पर्क करे (मो.) 9438741641 /9937207157 {Call / Whatsapp}

जय माँ कामाख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *