कर्णपिशाचिनी बार्ताली मंत्र प्रयोग कैसे करें?

Vartali Mantra Prayog

Karnpishachini Vartali Mantra Prayog : मंत्र: ओम ह्रीं श्रीं क्लीं न्रुं ठं ठं नमो देबपुत्रि स्वर्गनिबासनि सर्बनर नारी मुखबार्तालि बार्ता कथय सप्तसमुद्रान्दर्श्य दर्श्य ओम ह्रीं श्रीं क्लीं नीं ठं ठं हुं फट् स्वाहा । ( इति सप्त पंचशख्यरो मंत्र)   Vartali Mantra Prayog Vidhanm : दो जंगली बराह के दंन्त एबं शेल का शुल लाकर … Read more

कर्णपिशाचिनी तामस मंत्र क्या है ?

Karnapishachini Tamas Mantra

Karnapishachini Tamas Mantra : 1) मंत्र : “ओम कं ह्रीं प्राणकर्षणमालोकितेन बिश्वरुपी पिशाची बद बद ई ह्रीं स्वाहा ।” अस्य बिधानम् – पखैकं दशसाहस्त्रं जपित्वा पिण्डदानेन सिद्धयति भूत भबिष्य बर्तमानदातां कथयति ।   2) अन्यत्र मंत्रो यथा : “ओम ऐं ह्रीं श्रीं दुं हुं फट् कनक बज्र बैडूर्यमुक्तालंकृत भूषणे एहि एहि आगछ आगछ मम कर्णे … Read more

कर्णपिशाचिनी प्रयोग बिधि

Karnapishachini Prayog

Karnapishachini Prayog Vidhi : 1) मंन्त्रमहोदधौ- ओम ह्रीं कर्णपिशाचिनी कर्णे मे कथय स्वाहा। इति षोडशाख्यरो मंत्र: । श्मशान ब शब के पास अशुचि होकर साधना करें ।   2) मंत्र : ओम ऐं ह्रीं ऐं क्लीं क्लीं ग्लौं ओम नम: कर्णाग्रौ कर्णपिशाचिका देबि अतीतानागत बर्तमानबार्ता कथय मम कर्णे कथय कथय तथयं मुद्राबार्ता कथय कथय आगछागछ … Read more