बिप्र चाण्डालिनि मंत्र

बिप्र चाण्डालिनि मंत्र :

बिप्र चाण्डालिनि मंत्र : बिप्र चाण्डालिनि मंत्र : “ॐ नम: श्चामुण्डे प्रचण्डे इन्द्राय ॐ नमो बिप्रचाण्डालिनि शोभिनि प्रकर्षिणि आकर्षय द्रब्य मानय प्रबल मानय हुं फट् स्वाहा।” बिधि : तंत्र के अनुसार इस मंत्र की सिद्धि ४१ दिन में होगी। प्रथम दिन भूखा रहे, धरती पर सोबे, मीठा भोजन करें और आधा भोजन उसी थाली में … Read more

उन्नतिदायक लक्ष्मी मंत्र

Laxmi Mantra

Unnati-Dayak Laxmi Mantra : Mantra : “राम राम क्या करे, चीनी मेरा नाम। सर्ब नगरी बस में करूं, मोहुं सारा गांब । राजा की बकरी करूं, नगरी करूं बिलाई, नीचा में ऊंचा करूं, सिद्ध गोरखनाथ की दुहाई ।। Laxmi Mantra Vidhi : इस मंत्र की सिद्धि चालीस दिन में होती है । गुरू पुष्या नक्षत्र … Read more

उग्र ज्वालामालिनी त्रिकाल ज्ञान मंत्र क्या है?

Ugra Jwala Malini

Ugra Jwala Malini Trikal Gyan Mantra : ज्वालामालिनी की सिद्धि त्रिनेत्र जागरण में बिशेष सहायक है । तंत्र के रहस्यों को अनाबृत करने में यह साधना बिशिष्ट है । महातंत्रा भगबती का यह स्वरुप सिद्ध एबं उच्स्तरीय साधना का प्रतीक है । नीचे दिए गए मंत्र त्रिकाल ज्ञान ब दिब्य दृष्टि हेतु है, परन्तु त्रिकालज्ञ … Read more

गुप्त बिद्या प्राप्ति हेतु साधनाएं

Gupt Bidya

Gupt Bidya Prapti Hetu Sadhanaye : केबल बृहस्पतिबार के दिन मरे हुए उल्लू की आँखे निकल कर कहीं सुरक्षित रख लें तथा उसके शेष भाग को आधी रात के समय किसी चौराहे पर गाढ़ दें । इसके बाद जब भी शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के दिन गुरुबार पड़े, उस दिन उल्लू की आँख को शुद्ध … Read more

बिष्णु सुदर्शन यंत्र का कैसे उपयोग करें ?

Vishnu Sudarshan Yantra

Vishnu Sudarshan Yantra की रचना कोणसी शुभ दिन, पर्ब या शुभ मुहूर्त में अष्टगंध अथबा यक्षकर्दम की स्याही से अनार की लेखनी द्वारा भोजपत्र पर बनाये । बिधिबत पूजा करके ताबे या चाँदी के कबच में भरकर गले में या बाज़ू पर धारण करें । बिजय ब कार्यसिद्धि होगी । खोई हुई बस्तु प्राप्त होगी … Read more

गुरुमंत्र साधना प्रयोग

Guru Mantra Sadhna

Guru Mantra Sadhna : मंत्र : “आदिनाथ कैलास निवासी, उदयनाथ काटे जम फांसी। सत्यनाथ सारणी संत भाखे, संतोषनाथ सदा संतन की राखे। कन्थडिऩाथ सदा सुख दायी, अचती अचम्भेनाथ सहायी। ज्ञान पारखी सिद्ध चौरंगी, मच्छेन्द्रनाथ दादा बहुरंगी। गोरखनाथ सकल घट व्यापी, काटे कलिमल तारे भव पीड़ा। नव नाथों के नाम सुमिरिये, तनिक भस्मि ले मस्तक धरिये। … Read more

परिक्षित दुश्मनी प्रयोग :

परिक्षित दुश्मनी प्रयोग :

परिक्षित दुश्मनी प्रयोग : {{ व ज़न्ना अन्नहुल फ़िराकु वल तफ़फ़तिस्साकु बिस्साक़ी इला रब्बिका यव मइज़िन निल मसाकु अल्लाहुम्मा फ़र्रिक़ बयनाहुमा कमा फ़र्रक़ता बयनस्समाई वल अर्ज़ि व कमा फ़र्रक़ता बयना आदमा व इबलीसा व कमा फ़र्रक़ता बयना ईब्राहिमा व नमरुदा व फ़र्रक़ता बयना मूसा व फ़िरऔना व कमा फ़र्रक़ता बयना मुहम्मदिन सल्ललाहु अलयहि वसल्लमा व … Read more

मां चण्डी शाबर मंत्र :

मां चण्डी शाबर मंत्र :

मां चण्डी शाबर मंत्र : शाबर मंत्र : जै मां काली, मार तू ताली। ब्रह्मा की भैंण, शिब की स्वैण। मद की धार, ख्प्पर कू खून। दयों मैं तोयी, बैरी की आट। बैरी की बाट, अपणी जीबन। देह को चाट, बैरी को काट। बैरी को चाट, बैरी को धार। बैरी को मार, काल को संग। … Read more

काली आकर्षण मंत्र साधना कैसे करें?

आकर्षण मंत्र

काली आकर्षण मंत्र साधना कैसे करें : आकर्षण मंत्र (१) : क्रीं दक्षिणकालिके क्रीं स्वाहा। देबी के एक हाथ में रक्तबर्ण अंकुश तथा दुसरे हाथ में शुल का ध्यान करें । २) हुं हुं ह्रीं ह्रीं क्रीं क्रीं स्वाहा। यह उत्तम बशीकरण सब को बशीकरण करने बाला है । नाग यज्ञोपबीत, मस्तक पर जटाजूट ब … Read more